इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि। गोल्डन पाम टाउनशिप में मंगलवार दोपहर एएसआइ(यातायात) राजेंद्र कुमार शुक्ला के 22 वर्षीय बेटे प्रवीण ने लाइसेंसी बंदूक से गोली मारकर आत्महत्या कर ली। प्रवीण बीबीए फायनल का छात्र था और मंगलवार सुबह परीक्षक ने उसे नकल करते हुए पकड़ लिया था।

लसूड़िया थाना टीआइ इंद्रमणि पटेल के मुताबिक घटना एएसआइ राजेंद्र कुमार चौथी पल्टन स्थित सरकारी क्वार्टर में रहते है लेकिन प्रवीण गोल्डम पाम सेक्टर-आनंद बिहार के एफ ब्लाक(फ्लैट-101) में रहकर पढ़ाई करता था। एएसआइ की बेटी बड़ी बेटी सोनू त्रिपाठी भी इसी टाउनशिप के ए ब्लाक में रहती है।

दोपहर करीब 2 बजे सोनू ने प्रवीण को खाना खाने के लिए काल लिया तो मोबाइल पर रिंग बजती रही लेकिन जवाब नहीं मिला। सोनू ने बेटे को देखने भेजा लेकिन प्रवीण ने दरवाजा नहीं खोला। शक होने पर सोनू खुद पहुंची और प्रवीण को काल लगाया। फोन की घंटी की आवाज सुनाई देने पर सोनू घबराई और तुरंत पिता को कॉल कर पूरी घटना बताई। एएसआइ मौके पर पहुंचे और दूसरी चाबी से फ्लैट का दरवाजा खोला।

11: 45 बजे आया और दौड़ता हुआ फ्लैट में चला गया प्रवीण

टीआइ के मुताबिक प्रवीण ने एएसआइ की लाइसेंसी बंदूक से सिर में गोली मारी है। उसकी लाश बाथरूम में पड़ी हुई थी। इमारत के सीसीटीवी फुटेज से पता चला वह करीब 11: 45 बजे घर आ गया था। घटना के बाद मौके पर पहुंचे दोस्तों ने बताया मंगलवार को उसकी परीक्षा थी। निपानिया स्थित एक कालेज में प्रवीण को परीक्षक ने मोबाइल पर नकल करते हुए पकड़ लिया था। वह मोबाइल में प्रश्नों के उत्तर देख कर लिख रहा था। परीक्षक ने उसका मोबाइल और कापी जब्त कर दूसरी कापी दी थी। संभवत: उसने इसी कारण खुदकुशी की है। पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है। बंदूक को जब्त कर शव पीएम के लिए एमवाय अस्पताल भिजवाया है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local