Gold and Silver Price in MP: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। चांदी में घटे दामों पर शार्ट टर्म के निवेशकों की पूछताछ बढ़ने और बिकवाल पीछे हटने के कारण मंगलवार को चांदी में जोरदार तेजी देखने को मिली है। इंदौर में चांदी 650 रुपये उछलकर 60900 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गई। अंतरराष्ट्रीय बुलियन वायदा मार्केट में सटोरियों की सक्रियता के चलते कामेक्स पर चांदी 19 सेंट उछलकर 21.20 डालर प्रति औंस पर पहुंच गई। इसका भी असर घरेलू बाजार में देखा गया। वहीं कामेक्स पर सोना 6 डालर टूटकर 1746 डालर प्रति औंस रह गया। इधर, ज्वेलर्स की डिमांड कम होने से सोने में मंदी जारी रही। मंगलवार को सोना केडबरी 50 रुपये घटकर 52450 रुपये प्रति दस ग्राम रह गया। हालांकि लंबी मंदी की गुंजाइश कम है। कामेक्स सोना ऊपर में 1746 नीचे में 1736 डालर प्रति औंस और चांदी ऊपर में 21.20 नीचे में 20.79 डालर प्रति औंस पर कारोबार करती देखी गई।

चांदी की कीमत में बीते सप्ताह पांच प्रतिशत की गिरावट दर्ज हुई। चांदी 20.8 डालर प्रति ओंस के दाम पर आ गई है। एक सप्ताह पहले 14 नवंबर को चांदी 21.7 डालर प्रति औंस के दाम पर बिकी थी। यह कीमत पांच महीनों में उच्चतम थी। चांदी की कीमत अब भी बीते वर्ष इसी अवधि के मुकाबले कमजोर है। अभी ज्वैलरी बाजार की मांग चांदी में कमजोर दिखाई दे रही है। लेकिन आगे एक बार फिर चांदी में तेजी की उम्मीद है। इस व्यापारिक धारणा के पीछे मांग और आपूर्ति के अंतर को वजह बताया जा रहा है। सिल्वर इंस्टीट्यूट के अनुसार खदानों से चांदी का उत्पादन इस वर्ष 2 प्रतिशत बढ़ा है।

इस वर्ष चांदी का कुल उत्पादन बढ़कर 843.3 मिलियन औंस तक पहुंच चुका है। बीते वर्ष चांदी का उत्पादन 822.6 मिलियन औंस था। उत्पादन तो बढ़ा लेकिन इस वर्ष चांदी की कुल मांग में 5 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान भी जताया गया है। सिल्वर इंस्टीट्यूट ने चांदी की इस वर्ष की मांग 1,101.8 मिलियन औंस रहने का अनुमान जताया है। बीते वर्ष मांग 1,049 मिलियन औंस थी। इसी के साथ अहम बात ये है कि बीते वर्ष की शुरुआत चांदी की मांग के मुकाबले आपूर्ति में कमी से हुई थी। ऐसे में वर्ष 2021 और 2022 का आपूर्ति का घाटा मिलकर बाजार में 96.5 मिलियन औंस की कमी खड़ी कर रहा है।

आपूर्ति की इस कमी के चलते ही आगे चांदी में मजबूती देखी जा रही है। चार्टर्ड अकाउंटेंट और बाजार के विश्लेषक सीए सुमितसिंह मोंगिया के अनुसार जारी वर्ष और आने वाले वर्ष में चांदी की मांग न केवल गहनों, निवेश के लिए रहेगी बल्कि औद्योगिक मांग तेजी से बढ़ रही है। इसकी वजह हरित उुर्जा के प्रति विश्व का रुझान खास वजह है। दरअसल इलेक्ट्रिक व्हीकल और ग्रीन एनर्जी के लिए चांदी बैटरी व अन्य सर्किट निर्माण में अहम अव्यव है। ऐसे में चांदी की औद्योगिक मांग अब तेजी पकड़ती दिख रही है। कोविड से उबरने और मांग का कोविड पूर्व की स्थिति पर पहुंचने के कारण चांदी में आगे अच्छी संभावनाएं दिखाई दे रही हैं।

इंदौर के बंद भाव सोना केडबरी रवा नकद में 52450 सोना (आरटीजीएस) 53750 सोना (91.60 कैरेट) 49235 रुपये प्रति दस ग्राम बोला गया। सोमवार को सोना 52500 रुपये पर बंद हुआ था। चांदी चौरसा 60900 चांदी कच्ची 61000 चांदी चौरसा (आरटीजीएस) 61900 रुपये प्रति किलो बोली गई। सोमवार को चांदी 60250 रुपये पर बंद हुई।

रतलाम सराफा

चांदी चौरसा 61500, टंच 61600, सोना स्टैंडर्ड 53800, रवा 53750 रुपये। (आरटीजीएस भाव)

उज्जैन सराफा

सोना स्टैंडर्ड 52500, सोना रवा 52400, चांदी पाट 60500, चांदी टंच 60400, सिक्का 800

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close