इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Smart City Indore। इंदौर स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कंपनी लि. अब दूसरे जिलों, नगरीय निकायों और अन्य सरकारी विभागों को न केवल कार्बन क्रेडिट से पैसा कमाकर देगी, बल्कि इस काम के लिए कमीशन भी लेगी। इसके लिए अलग से कंसल्टेंट नियुक्त होगा, जो दूसरे पक्षों से अनुबंध कर यह काम संपन्ना करेगा।

इसका फैसला बुधवार शाम नेहरू पार्क स्थित स्मार्ट सिटी आफिस में हुई बोर्ड बैठक में लिया गया। स्मार्ट सिटी कंपनी के सीईओ ऋषव गुप्ता ने बताया कि यह नया प्रयोग है, जो इंदौर स्मार्ट सिटी कंपनी कर रही है। कलेक्टर मनीष सिंह, निगमायुक्त प्रतिभा पाल और अन्य बोर्ड सदस्यों की मौजूदगी में हुई बैठक में तय किया गया कि कबीटखेड़ी स्थित स्लज हाइजेनेशन प्लांट में बायो एनपीके कार्य कराया जाएगा। इसके तहत वहां नालेे की गाद से फर्टिलाइजर बनाने की प्रयोगशाला स्थापित की जाएगी। इसके अलावा बोर्ड ने नेेहरू पार्क की 10 हजार वर्गफीट जमीन पर आल एबिलिटी पार्क बनाने की भी सहमति दे दी है।

विशेष श्रेणी के पार्क में बच्चों और बुजुर्गों से लेकर दिव्यांगों तक के मनोरंजन, खेलकूद आदि के इंतजाम होंगे। ऐसा पार्क अभी प्रदेश में नहीं है। स्मार्ट सिटी कंपनी ने शहर के सात गारबेज ट्रांसफर स्टेशन पर यूनिपोल लगाने को भी मंजूरी दे दी है। बोर्ड ने 56 दुकान पर सीसीटीवी कैमरेे लगाने, बड़ा गणपति-कृष्णपुरा सड़क चौड़ीकरण के लिए निविदाएं बुलाने और सिटी बस आफिस परिसर स्थित ट्रांजिट मैनेजमेंट सिस्टम की बिल्डिंग में एलिवेशन कार्य को भी स्वीकृति दे दी है। कंपनी ग्राउंड माउंटेड और फ्लोटिंग सोलर पीवी पावर प्लांट स्थापित करने के लिए कंसल्टेंट नियुक्त करेगा।

Posted By: gajendra.nagar

NaiDunia Local
NaiDunia Local