Hello Doctor Indore: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। दमा दम के साथ जाता है यह बात सही नहीं है। अगर आप नियमित दवाएं लेंगे तो अस्थमा पूरी तरह से नियंत्रित हो सकता है। मौसम में बदलाव होते ही अगर आपको सर्दी-जुकाम और खांसी हो जाती है और यह 15 दिन से ज्यादा समय तक रहती है तो आपको अस्थमा हो सकता है। सामान्य सीबीसी, टोटल आइजीई और पीएफटी जांच से इस बीमारी का पता आसानी से लगाया जा सकता है। प्रदूषण की वजह से इसके मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। यह भी भ्रांति है कि अस्थमा की बीमारी 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को ही होती है। दरअसल ऐसा है नहीं। युवावस्था में ही इस बीमारी के लक्षण नजर आने लगते हैं।

यह बात अस्थमा रोग विशेषज्ञ डा. दीपक बंसल ने कही। वे बुधवार को नईदुनिया के साप्ताहिक आयोजन हेलो डाक्टर में पाठकों को अस्थमा के बारे में जानकारी दे रहे थे। उन्होंने बताया कि धूमपान करने वालों को अस्थमा होने की आशंका अन्य लोगों के मुकाबले अधिक रहती है। यह एक अनुवांशिक बीमारी है। माता-पिता में से किसी एक को भी अस्थमा है तो बच्चे में इसके होने की आशंका ज्यादा रहती है। डा.बंसल ने बताया कि अस्थमा एलर्जी की वजह से होता है। अस्थमा नियंत्रित करने के लिए एलर्जी का पता लगाना होता है।

ऐसे पहचानें अस्थमा को

-अगर आपको मौसम में बदलाव होते ही सर्दी-जुकाम और खांसी की समस्या होती है जो 15 दिन से ज्यादा रहती है तो अस्थमा हो सकता है।

-अस्थमा के लक्षण रात और सुबह के वक्त ज्यादा नजर आते हैं।

-जिनके परिवार में किसी को पहले से अस्थमा है उन्हें अस्थमा होने की आशंका सामान्य के मुकाबले अधिक रहती है।

सामान्य लक्षण

-नाक बहना, लगातार और बार-बार छींके आना, खांसी चलना, सांस लेने में दिक्कत होना और सीने में सीटी जैसी आवाज आना।

यह भी जानें

-अस्थमा पूरी तरह से नियंत्रित हो सकता है। नियमित दवाइयों के सेवन और सावधानी रखने से इसे पूरी तरह से नियंत्रित किया जा सकता है।

-जीवनशैली में बदलाव से अस्थमा को रोका जा सकता है। श्वसन तंत्र को मजबूत करने के लिए सांस के व्यायाम जैसे अनुलोम-विलोम करें। साइकिल चलाएं, पैदल चलना और दौड़ना भी अच्छा व्यायाम है। हर वर्ष फ्लू का टीका जरूर लगवा लें। शराब और धूमपान से बचें।

सवाल-जवाब

सवाल - अस्थमा के रोगियों को क्या सावधानी रखनी चाहिए। -मोहनलाल अग्रवाल

जवाब - अस्थमा के रोगियों को चाहिए कि वे बहुत ज्यादा ठंडी हवा में बाहर न निकलें। बहुत ज्यादा ठंडी चीजों के सेवन से बचें। कोई भी खाद्य वस्तु फ्रीज से निकालने के तुरंत बाद न खाएं। थोड़ी भी सर्दी जुकाम हो तो तुरंत डाक्टर से मिलें।

सवाल- 45-50 की आयु वालों को सीढ़ी चढ़ने में दिक्कत होती है। सांस फूलने लगती है। क्या यह अस्थमा है। -सुनील शर्मा

जवाब - नहीं यह अस्थमा नहीं है। अस्थमा एलर्जी की वजह से होता है। अगर आपको सीढ़ी चढ़ने में दिक्कत आ रही है या सांस फूल रही है तो आपको व्यायाम करना चाहिए। अस्थमा का मधुमेह, ब्लड प्रेशर या दिल की बीमारी से कोई संबंध नहीं है।

सवाल - मुझे एलर्जी है। दिन में समस्या नहीं है लेकिन रात में कुछ घंटे सोने के बाद सांस लेने में दिक्कत होती है। क्या करूं। - प्रकाशचंद

जवाब - यह क्लासिकल अस्थमा का लक्षण है। इसमें मध्य रात्रि में लक्षण बढ़ जाते हैं और सांस की नली में सूजन आ जाती है। आपको नियमित रूप से कम से कम एक माह तक इन्हेलर लेना होगा।

सवाल - मुझे अस्थमा है। क्या करूं। -निर्मला उपाध्याय

जवाब - आपको नियमित रूप से इन्हेलर लेना है। कई बार लोग दिक्कत होने पर ही इन्हेलर लेते हैं। यह सही नहीं है। ऐसा करने से आपकी बीमारी बढ़ सकती है।

सवाल - क्या अस्थमा की दवाई पूरे जीवन लेनी पड़ती है। - हुकमचंद कटारिया

जवाब - ऐसा नहीं है। अस्थमा की दवाइयां जीवनभर नहीं चलती हैं। इनकी आदत भी नहीं पड़ती।

सवाल - सर्दी जुकाम बना रहता है। सोते समय नाक बंद हो जाती है। मुंह सूख जाता है। क्या करें। -केसी शर्मा

जवाब -आपको एलर्जी है। नाक में डालने की दवा और एंटीबायोटिक दवाई लेनी चाहिए। नेजल स्प्रे भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

ये सावधानी रखें

-धूल, धुएं, मिट्टी वाले स्थान पर न जाएं। जाना ही पड़े तो मास्क लगाकर जाएं।

-इन्हेलर का नियमित इस्तेमाल करें और दवाइयां नियमित रूप से लें।

-नियमित रूप से इंफ्लूएंजा का टीका लगवाएं।

-बहुत ज्यादा ठंडी चीजें न खाएं।

-जिन चीजों से एलर्जी है उनका सेवन न करें।

-धूमपान से बचें। धूमपान करने वालों को अस्थमा होने की आशंका ज्यादा रहती है।

-शराब पीने से अस्थमा में कोई फायदा नहीं होता है।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close