इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि । कोविड की तीसरी लहर में बच्चों व गर्भवती महिलाओं को संक्रमण होने की आशंका जताई जा रही है। ऐसे में इंदौर के सरकारी व निजी अस्पतालों में इनके लिए विशेष तौर पर बेड आरक्षित किए गए है। इंदौर में अब तक एक लाख 52 हजार 994 लोग संक्रमित हुुए है। इनमें 18 हजार 112 बच्चे व किशोर संक्रमित हुए है। हालांकि जुलाई माह में अब तक सिर्फ 26 बच्चे व किशोरों के संक्रमित होने की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के पास पहुंची है।

चाचा नेहरु अस्पताल के अधीक्षक डा. हेमंत जैन के मुुताबिक आंकड़ों को देखे तो उससे पता चलता है कि इंदौर में अभी तक 12 प्रतिशत बच्चे व किशोर कोविड संक्रमित हुए है। अभी तक जितने भी बच्चे संक्रमित हुए है, उनमे से अधिकांश बिना लक्षण वाले ही रहे हैं। ऐसे बच्चे व किशोर घर पर ही रहकर ठीक हुए और उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की जरुरत नहीं हई है।

सिर्फ दो से तीन प्रतिशत बच्चे ही ऐसे होंगे जिन्हें अन्य कोई बीमारी होने के कारण संक्रमित होने पर अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। पहली लहर में जहां बच्चे संक्रमित नहीं हुए थे, वहीं दूसरी लहर में बच्चे भी संक्रमित हुए। ऐसे में आंशका जताई जा रही है कि कोविड की तीसरी लहर में यदि वायरस सुपर स्प्रेडर स्थिति में होगा तो ज्यादातर बच्चे प्रभावित होंगे। यही वजह है कि इंदौर में बच्चों व गर्भवतियों के लिए अस्पतालों में विशेष इंतजाम किए जा रहे है। इसके लिए बिस्तर, आक्सीजन बेड, इंजेक्शन के साथ ही अन्य जरूरी सुविधाएं को दुरस्त किया जा रहा है।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local