Indore News: उदय प्रताप सिंह, इंदौर। कबीटखेड़ी में स्मार्ट सिटी कंपनी द्वारा तैयार किए गए स्लज हाइजीनेशन प्लांट को चलाने पर अभी हर माह दो से तीन लाख रुपये का बिजली का बिल आ रहा है। ऐसे में इस प्लांट की छत पर सोलर पैनल लगाकर स्मार्ट सिटी कंपनी बिजली तैयार करेगी। इस संबंध में प्लांट की छतों पर सोलर पैनल लगाने का काम शुरू भी हो गया है। करीब 77 लाख रुपये खर्च कर यहां पर सोलर पैनल लगाए जा रहे हैं। इससे 21 हजार यूनिट बिजली तैयार होगी।

अभी जहां इस प्लांट के संचालन पर स्मार्ट सिटी कंपनी को प्रतिमाह बिजली बिल पर दो से तीन लाख रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं। वहीं प्लांट पर सोलर पैनल से लगाने से प्रतिमाह 21 हजार यूनिट बिजली बनेगी। इससे प्रतिमाह एक लाख रुपये व सालभर में 12 लाख रुपये बिजली बिल का खर्च बचेगा। स्लज हाइजीनेशेन प्लांट पर 150 किलोवाट क्षमता का सोलर प्लांट लगाने का काम शुरू किया गया है जो 15 जुलाई तक पूरा होगा। इसके पश्चात प्लांट पर लगे सोलर पैनल से बिजली बननी शुरू होगी।

सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के सोलर पैनल से 9 से 10 लाख रुपये की हो रही बचत

नगर निगम द्वारा कबीट खेड़ी स्थित सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट परिसर में जुलाई 2019 में पांच करोड़ 94 लाख रुपये की लागत से 1500 किलोवाट क्षमता का सोलर प्लांट लगाया गया था। इस सोलर प्लांट से प्रतिमाह एक लाख 30 हजार यूनिट बिजली तैयार हो रही है। इस तरह इस प्लांट पर सोलर पैनल लगाने से निगम को बिजली बिल पर प्रतिमाह 9 से 10 लाख रुपये की बचत हो रही है।

प्रतिवर्ष 1500 कार्बन क्रेडिट मिलते हैं

स्लज हाइजीनेशन प्लांट की छत पर सोलर पैनल लगाने का काम अगले एक माह में पूरा हो जाएगा। कबीटखेड़ी के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में लगे सोलर प्लांट से प्रतिवर्ष 1500 कार्बन क्रेडिट मिलते हैं। इस तरह स्लज हाइजीनेशन प्लांट में सोलर पैनल लगने से प्रतिवर्ष 300 से 400 कार्बन क्रेडिट मिल सकेंगे। इस प्लांट को तैयार करने पर जितनी राशि खर्च की जा रही है वो अगले छह साल में वसूल हो जाएगी। इसे लगाने वाली कंपनी अगले पांच साल तक इसका रखरखाव करेगी ।

- ऋषव गुप्ता, सीईओ, स्मार्ट सिटी कंपनी

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close