Indore Crime News: इंदौर, नईदुनिाया प्रतिनिधि। प्रतिबंधित माडल की कारें बेचने के बहाने 45 लाख रुपये ठगने वाले दो भाईयों की कहानी भी रौचक है। जिन आरोपित भाईयों ने एक साल पूर्व 45 लाख ठगे अब वो सट्टा और पोस्टर चिपकाने का काम कर रहे थे। इनके खातों में भी सिर्फ 15 हजार रुपये बचे हैं। आरोपितों का नाम विजय और नितीन कोठारी है।

परदेशीपुरा पुलिस ने एक महीने पूर्व क्लर्क कालोनी निवासी स्क्रैप कारोबारी विपिन निषाद की शिकायत विजय कोठारी और नितिन कोठारी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया था। विपिन थोक में कबाड़ का सामान खरीदने और बेचने का व्यवसाय करता है। आरोपितों ने उससे संपर्क कर कहा कि उसके पास बीएस-4 माडल की कारों का लाट आया है। इन कारों के रजिस्ट्रेशन पर सरकार मार्च 2020 में प्रतिबंध लगा चुकी है। एसआइ अजयसिंह कुशवाह के मुताबिक निषाद ने 40 कार का सौदा 85 लाख में किया और 45 लाख रुपये अक्टूबर 2020 से नवंबर 2020 के बीच खातों में जमा करवा दिए। इसके बाद आरोपितों ने मोबाइल स्वीच आफ किए और फरार हो गए।

निषाद की शिकायत पर जांच हुई

बुधवार को एसआइ ने दोनों आरोपितों को नयापुरा दलोतरा (राजस्थान) से गिरफ्तार कर लिया। एसआइ के मुताबिक आरोपितों ने रुपये मौज-मस्ती में खर्च करना कबूला है। पुलिस ने पकड़ा तब विजय तो गांव-गांव घुम कर दीवारों पर पोस्टर चस्पा करने की नौकरी करता मिला। जबकि विपिन जुआं-सट्टा लगाने का काम करना बता रहा है। रुपयों की जब्ती के लिए पुलिस ने खातों की जानकारी जुटाई लेकिन उसमें भी मात्र 15 हजार रुपये मिले।

रिटायर पुलिसकर्मी का बेटा धोखाधड़ी में गिरफ्तार

उधर कनाड़िया पुलिस ने रिटायर पुलिसकर्मी मनोहरसिंह भदौरिया के बेटे महेंद्रसिंह और उसके साथी राजकुमार गोवर्धनदास नेहलानी को गिरफ्तार किया है। टीआइ जेपी जमरे के मुताबिक आरोपितों ने साथी राकेश माथुर के साथ मिलकर षड़यंत्र रचा और काउंटीवाक (झलारिया) स्थित दूसरे के भूखंड को बेच कर फरियादी से 11 लाख 71 हजार रुपये ऐंठ लिए।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close