Balidan Diwas 2022: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शहर के इंदौर स्टेडियम में टंट्या मामा के बलिदान दिवस पर कहा कि प्रदेश में लव जिहाद को किसी भी हालात में पनपने नहीं दिया जाएगा। कोई भी हमारी बेटियों-बच्चियों को प्यार के नाम पर शादी कर 35 टुकड़े कर दे, हम इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे।

सीएम ने कहा कि दूसरे धर्म के लोग आदिवासी बेटियों को बहला-फुसलाकर जमीन हथियाने के लिए शादी कर रहे हैं। यह लव नहीं, जिहाद है, लेकिन प्रदेश की धरती पर जिहाद नहीं चलने दूंगा। कोई शादी कर ले और बेटी के 35 टुकड़े कर दे, यह नहीं चलेगा। जरूरत पड़ी तो लव जिहाद कानून बनाया जाएगा।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने स्टेडियम में मौजूद आदिवासियों को पेसा कानून के अधिकारों के साथ ही मनरेगा के बारे जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पेसा कानून किसी भी धर्म के खिलाफ कानून नहीं बनाया गया है। उन्होंने कहा कि पेसा कानून आदिवासियों के लिए हैं। आपकी जमीन पर कोई भी ऐसे अधिकार नहीं कर सकता। कई लोग आपकी जमीन को हड़पने के लिए कई तरह से प्रयास कर सकते हैं। वह आपकी जमीन हथियाने के लिए आपकी बेटियों से विवाह कर सकते हैं। यह ठीक नहीं है। इससे सजग भी रहें।

टंट्या मामा के बलिदान दिवस पर राज्यपाल और मुख्यमंत्री पातालपानी पहुंचे थे। यहा माल्यर्पण करने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि पातालपानी की माटी ने वीर नायक टंट्या भील को अपने दामन में समेटा था। आज उनके बलिदान दिवस के अवसर पर यहां का कण कण जागृत और गर्वित नज़र आ रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पातालपानी स्टेशन का नाम टंट्या मामा स्टेशन हो गया हैं।

राज्यपाल पटेल और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रविवार को उनकी शहादत को नमन करने पहुंचे थे। यहां संस्कृति और पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर हेलीपैड पर उनकी अगवानी की। माल्यार्पण करने के बाद हेलीकॉप्टर से इंदौर पहुंचे। यहां टंट्या मामा की प्रतिमा का अनावरण किया। भंवरकुआं चौराहा अब टंट्या मामा चौराहा हो गया।

स्टेडियम में नाचते-गाते पहुंचे लोग

नेहरू स्टेडियम में होने वाले आयोजन के लिए दोपहर 12 बजे से ही लोग पहुंचने लगे थे। डीजे और डोल की थाप पर नाचते-गाते पहुंचने लगे। कुर्सियां भरने के बाद स्टेडियम की दीर्घा में लोगों को बैठाया जाने लगा। चार गेट से लोगों को प्रवेश दिया गया। स्टेडियम के प्रत्येक गेट पर शौचालय और पानी की व्यवस्था की गई थी।

पातालपानी स्टेशन का नाम टंट्या मामा स्टेशन हो गया

जननायक टंट्या मामा के बलिदान दिवस के अवसर पर रविवार को शहर में अलग-अलग स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और राज्यपाल मंगूभाई पटेल महू के पातालपानी से इंदौर के टंट्या मामा चौराहा (भंवरकुआं) चौराहे पहुंचे। यहां उन्होंने टंट्या मामा की प्रतिमा का अनावरण किया। इसके बाद वह नेहरू स्टेडियम के मुख्य कार्यक्रम के लिए रवाना हुए।

पातालपानी में उन्होंने पुरानी घोषणाओं में जो कार्य पूरे हो गए, उनकी जानकारी ली। साथ ही पातालपानी रेलवे स्टेशन का नाम टंट्या मामा रेलवे स्टेशन भी कर दिया गया। महू के पातालपानी में रविवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व राज्यपाल मंगू भाई पटेल टंट्या मामा बलिदान दिवस मनाने पहुंचे। मुख्यमंत्री चौहान का क्रांतिकारी खज्जा नायक भील की भी प्रतिमा बनाने की घोषणा की।

कई कार्यक्रम होंगे आयोजित

शहर में आयोजित कार्यक्रमों में राज्यपाल मंगुभाई पटेल और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शामिल होंगे। वहीं कार्यक्रम को लेकर शनिवार को प्रशासन की ओर से लगभग तैयारियां पूरी हो गई है। कार्यक्रम की शुरुआत पातालपानी से होगी। वहां टंट्या मामा स्मारक पर पूजा अर्चना कर लोगों को संबोधित करेंगे। इसके बाद टंट्या मामा चौराहा (भंवरकुआं) पर बनाई टंट्या मामा की प्रतिमा का अनावरण किया जाएगा।

नेहरू स्टेडियम में मुख्य आयोजन रखा गया है, जहां संभाग से बड़ी संख्या में लोग शामिल होंगे। इन्हें यहां लाने के बसों की व्यवस्था भी की गई है। कार्यक्रम में करीब 1 लाख लोगों के आने की संभावना है। यह पहली बार है जब टंट्या मामा को लेकर शहर में इतना बड़ा आयोजन किया जा रहा है। कलेक्टर डा. इलैयाराजा टी ने बताया कि यह राज्य स्तरीय कार्यक्रम है। बलिदान दिवस का कार्यक्रम भव्य एवं व्यापक होगा। सभी तैयारियां पूरी हो गई है। सेक्टरवार बैठक व्यवस्था की गई है।

कार्यक्रम स्थल में 22 सेक्टर बनाए गए हैं। इन सेक्टरों में विभिन्न व्यवस्थाओं के लिए अधिकारियों को जिम्मेदारी दी गई है। कार्यक्रम में चयनित हितग्राहियों को लाभान्वित किया जाएगा। साथ ही राज्य शासन की योजनाओं, कार्यक्रमों, अभियानों तथा उपलब्धियों पर केन्द्रीत प्रदर्शनी भी लगाई गई है। परिवहन, पार्किंग, भोजन, पेयजल, आकस्मिक चिकित्सा व्यवस्था की गई है।

आठ पार्किंग स्थल बनाए, 2240 बसों को पार्क करने की व्यवस्था

प्रशासन ने लोगों की सुविधाओं को देखते हुए एग्रीकल्चर कॉलेज के पास 450 बसों की व्यवस्था, पी 2 में 800 बसें, एआईसीटीएसएल डिपो में 250 बसें, मसिही कन्या विद्यालय में 100 बसें, जेल के किनारे 40 बसें, सीपीडब्ल्यू बंगला में 300 बसें, चर्च मैदान पीएससी के सामने 200 बसें और होमगार्ड कार्यालय परिसर 100 बसें पार्क की जा सकेगी। कुल 2240 बसों के लिए पार्किंग व्यवस्था की गई है।

इन जिलों से आएंगे लोग

कार्यक्रम में उज्जैन, देवास, नीमच, रतलाम, धार, झाबुआ, अलीराजपुर, खरगोन, बड़वानी, खण्डवा, बुरहानपुर आदि जिलों से लोग आएंगे।

समीक्षा बैठक में निर्देश- कार्यक्रम में किसी को परेशानी ना हो

कार्यक्रम की तैयारियों को लेकर समीक्षा की गई, जिसमें जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर, संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा, पुलिस कमिश्नर हरिनारायणचारी मिश्र ने बैठक ली। बैठक में उन्होंने आयोजन से जुड़े सभी अधिकारियों को बेहतर व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। इस दौरान सांसद शंकर लालवानी, आइडीए अध्यक्ष जयपाल सिंह चावड़ा, कलेक्टर डा इलैया राजा टी, विधायक रमेश मेंदोला, पूर्व विधायक राजेश सोनकर, सुदर्शन गुप्ता आदि मौजूद रहे। समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि कार्यक्रम को भव्य और ऐतिहासिक रूप से आयोजित करने में कोई कसर नहीं रखी जाए। कार्यक्रम में आने वाले किसी भी व्यक्ति को परेशानी नहीं हो।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close