Indore News: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। आइडीए द्वारा राजेंद्र नगर क्षेत्र में मल्टीकल्चरल सेंटर के रूप में तैयार किया गया आडिटोरियम 10 साल बाद भी पूरी तरह तैयार नहीं हो पाया है। आडिटोरियम की इमारत तो 10 साल पहले ही तैयार हो गई थी, लेकिन इसके इंटीरियर का काम संस्कृति विभाग व आइडीए के बीच झूलता रहा। संस्कृति विभाग इसकी सुध नहीं ले सका और यह प्रोजेक्ट वर्षों तक खटाई में पड़ा रहा। अब आइडीए ने पुन: इस आडिटोरियम के बचे हुए काम को पूरा करने का जिम्मा लिया है और इसे अप्रैल माह तक तैयार करने का दावा किया जा रहा है।

‘ घोषणाओं का सच...वादों की हकीकत’

आइडीए ने वर्ष 2010 में राजेंद्र नगर क्षेत्र के स्कीम 97 के पार्ट 4 में आडिटोरियम बनाने का काम शुरू किया था। वर्ष 2013 में आडिटोरियम की इमारत का कार्य पूर्ण हुआ था। उस समय करीब 33 हजार वर्गफीट जमीन पर तैयार इमारत के निर्माण पर 7.5 करोड़ रुपये खर्च किए गए थे। संस्कृति विभाग इस आडिटोरियम को भोपाल के भारत भवन की तर्ज पर विकसित करना चाहता था। इस वजह से आइडीए ने इमारत का निर्माण कर संस्कृति विभाग को सौंप दिया था। वर्ष 2013 में संस्कृति विभाग के अफसरों ने इसके विकास की योजना बनाई। आडिटोरियम के बचे हुए काम को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार से विभाग ने राशि की मांग की। वहां से नहीं मिली तो संस्कृति विभाग ने आइडीए से राशि की मांग की लेकिन विभागों के बीच आपसी सामंजस्य न होने से यह प्रोजेक्ट अटक गया। इसके बाद वर्ष 2016 में आडिटोरियम को पूरा करने की जिम्मेदारी पुन: आइडीए को मिली।

लता मंगेशकर के नाम पर आडिटोरियम व म्यूजियम बनाने की योजना

आइडीए द्वारा करीब चार महीने पहले इस आडिटोरियम के बचे हुए काम को पूरा करने की योजना बनाई और इंटीरियर का कार्य शुरू करवाया गया। उस समय जो इंटीरियर कार्य पांच करोड़ रुपये में होना था,अब उस पर आठ से नौ करोड़ रुपये खर्च हो रहे हैं। यहां पर 1500 दर्शक क्षमता का आडिटोरियम तैयार होगा। आडिटोरियम का नाम स्वर कोकिला लता मंगेशकर के नाम रखा जाना तय किया गया है। यहां पर एक कला वीथिका व म्यूजियम भी बनाना जाएगा।

हमारी कोशिश है कि अप्रैल माह तक राजेंद्रनगर के आडिटोरियम के इंटीरियर सहित अन्य काम पूरे हो जाएं। जब से एजेंसी ने काम शुरू किया है उसके बाद यह बंद नहीं हुआ है। आडिटोरियम तैयार होने से पश्चिमी क्षेत्र के लोगों व कलाकारों को सांस्कृतिक आयोजन के लिए मंच मिल सकेगा। यहां पर लता मंगेशकर के नाम पर एक संगीत एकेडमी भी संचालित की जाएगी। इसके अलावा कलावीथिका व म्यूजियम भी रहेगा।

-जयपाल सिंह चावड़ा, अध्यक्ष आइडीए

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close