इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Fees Scam In Indore । माता जीजाबाई शासकीय कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय (ओल्ड जीडीसी) में फीस घोटाले को लेकर जांच की गति धीमी हो गई है। कमेटी सदस्यों ने अभी तक बाकी पीड़ित छात्राओं के बयान दर्ज नहीं किए है। यहां तक तत्कालीन प्रशासनिक अधिकारी व अन्य प्राध्यापकों से भी पूछताछ होना बाकी है। कुछ दिनों की जांच में पुराने मामले भी कमेटी के सामने आया है। इसे लेकर कालेज में बरसों से जमे प्राध्यापक को डर सताने लगा है। अब जांच रुकवाने के लिए प्राध्यापकों ने कमेटी पर दवाब बनाना शुरू कर दिया है और कालेज की छवि खराब होने का हवाला दिया जा रहा है।

कमेटी की कई दिनों से बैठक नहीं हुई है। सूत्रों के मुताबिक एक महिला प्राध्यापक कमेटी के सदस्यों से मिलने में लगी है। वे कर्मचारियों को बचाने में लगी है और कहा कि कर्मचारी ने कालेज के पैसा जमा करवा दिए है तो कार्रवाई की जरूरत नहीं है। दरअसल जुलाई में अतुल गौड़ ने 71 हजार 700 रुपये कालेज में भर दिए थे, जिसमें 12 छात्राओं से फीस वसूलना बताया। मगर फीस की राशि को लेकर कोई उल्लेख नहीं किया। छात्रा कनिष्का आर्य की शिकायत में नियमित कर्मचारी पर भी आरोप लगाए है। इसे पत्र के आधार पर कालेज ने जूनी इंदौर थाने में शिकायत की है।

जांच के लिए कमेटी को बने पंद्रह दिन बीत चुके है, जिसमें अभी तक इन छात्राओं और तत्कालीन अधिकारी डा. एमडी सोमानी, डा. अजगर अली सहित अन्य प्राध्यापकों से पूछताछ नहीं हुई है। साथ ही छात्राओं को कर्मचारियों द्वारा दी रसीद भी नहीं जप्त की है। सूत्रों के मुताबिक छात्रवृत्ति और परीक्षा शुल्क को लेकर भी आर्थिक अनियमितता सामने आई है।

अधिकारियों के मुताबिक जांच कमेटी में दो सदस्य अन्य सरकारी कालेजों को प्राध्यापक बनाए है। उनसे भी ओल्ड जीडीसी के कई प्राध्यापक और कर्मचारी संपर्क करने में लगे है। उच्च शिक्षा विभाग के अतिरिक्त संचालक डा. सुरेश सिलावट का कहना है कि जांच रिपोर्ट अगले सात दिन में कमेटी सौंपेगी। उसके बाद दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local