कुलदीप भावसार, इंदौर (नईदुनिया), Corona News Indore। कोरोना की तीसरी लहर इंदौरियों पर भारी पड़ रही है। हालत यह है कि कोरोना की पहली लहर में जितने संक्रमित मिले थे उससे दोगुने तो सिर्फ पिछले 14 दिन में मिल गए। इस दौरान सवा सात हजार से ज्यादा संक्रमित मिल चुके हैं। संक्रमण की दर भी 11 प्रतिशत पर पहुंच गई है। चिंता की बात यह है कि एक तरफ मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है दूसरी तरफ रिकवरी की दर में लगातार गिरावट आ रही है। 14 दिनों में यह 90 से गिरकर 70 प्रतिशत हो गई है। इस दौरान कोरोना की वजह से 47 लोग जान गंवा चुके हैं।

कोरोना की पहली लहर अप्रैल-मई में मानी जाती है। उस वक्त तक शहर में न जांच की पर्याप्त व्यवस्था थी न इलाज की। 24 मार्च से 31 मई के बीच शहर में 36635 सैंपल जांचे गए और सिर्फ 3539 कोरोना संक्रमित मिले थे। यानी संक्रमण की दर 10 प्रतिशत से भी कम चल रही थी। लगभग ऐसे ही हालात दूसरी लहर के वक्त भी अगस्त-सितंबर में बने। इस दौरान भी संक्रमण की दर 10 प्रतिशत के नीचे ही रही।

दूसरी लहर के बाद संक्रमण की दर लगातार कम होने लगी। नवंबर के पहले पखवाड़े तक यह गिरावट जारी रही। इसके बाद अचानक संक्रमण की दर बढ़ने लगी। माना जा रहा है कि नवंबर के दूसरे पखवाड़े से शहर कोरोना की तीसरी लहर की चपेट में है। यह शहरवासियों पर लगातार कहर बरपा रही है। 21 नवंबर से शहर में रोज 500 से ज्यादा संक्रमित मिल रहे हैं।

रिकवरी दर भी गिर गई

इन 14 दिनों में शहर में 7257 संक्रमित मिले लेकिन ठीक सिर्फ 5123 ही हुए। यानी रिकवरी की दर 70.59 पर आ गई है जो किसी समय 90 प्रतिशत से ज्यादा चल रही थी। इन 5123 मरीजों में से भी 3068 वो हैं जिन्हें समायोजित किया गया है। यानी ये मरीज या तो पहले ही अस्पतालों से डिस्चार्ज हो चुके थे या घर पर ही ठीक हो गए।

Posted By: sameer.deshpande@naidunia.com

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस