इंदौर। सूर्य के धनु राशि में प्रवेश के साथ ही 16 दिसंबर से मुंडन, गृह प्रवेश और उपनयन संस्कार के साथ मांगलिक आयोजनों का दौर एक माह के लिए थम जाएगा। सूर्य का धनु राशि में प्रवेश इस दिन दोपहर 3.27 बजे होगा। इस दौरान शादी-विवाह, सगाई आदि भी नहीं होगी। हालांकि दो दिन पहले 14 दिसंबर को ही गुरु के अस्त होने के चलते विवाह के शुभ मुहूर्त पंचांग में नहीं बताए गए हैं।

पं. देवेंद्र कुशवाह के अनुसार इसके बाद सूर्य 15 जनवरी 2020 की रात 2.07 बजे मकर राशि में प्रवेश करेगा। इसके साथ मांगलिक कार्यों की शुरुआत होगी। हालांकि विवाह के शुद्ध मुहूर्त पंचांगों में 23 जनवरी से दिए गए हैं।

जनवरी में 23, 25, 26, 27, 28, 29 और फरवरी में 6, 7, 8, 12, 17, 18, 19, 20, 22, 23, 24, 25 को विवाह होंगे। इसके बाद 3 मार्च से होलिका अष्टक प्रारंभ होने से विवाह के मुहूर्त नहीं रहेंगे। होलिका अष्टक में भी मांगलिक कार्य करना वर्जित माना गया है।

इसलिए नहीं होते मांगलिक कार्य

ज्योतिर्विद् पं. ओम वशिष्ठ ने बताया कि हिंदू धर्म में किसी भी मांगलिक कार्य को करने के लिए शुभ मुहूर्त देखा जाता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार शरद ऋतु में एक माह का समय ऐसा आता है, जब मांगलिक कार्य पूर्णत: प्रतिबंधित होते हैं, इसे खरमास या मलमास कहा जाता है।

हर व्यक्ति कोई भी शुभ कार्य करने के लिए सबसे पहले शुभ मुहूर्त देखता है। इस दौरान भगवान का सुमिरन करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। इस दिन सूर्य बृहस्पति की राशि में प्रवेश कर जाएगा, जिससे मलमास शुरू हो जाएगा, इसलिए इस दिन से विवाह और अन्य कई शुभ कार्य नहीं होंगे।

Posted By: Sandeep Chourey

fantasy cricket
fantasy cricket