इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। 190 हैक्टेयर में फैले उमरीखेडा पार्क में पर्यटकों को जल्द ही घूमने का मौका मिलेगा। पार्क को शुरू करने के लिए विभाग की तैयारियां अंतिम चरणों में पहुंच चुकी है। चुनाव की वजह से पार्क का उद्घाटन टल चुका है। अब जुलाई अंतिम सप्ताह में पार्क पर्यटकों के लिए खोला जाएगा। यहां का प्रवेश शुल्क विभाग ने तय कर दिया है। विशेषबात यह है कि पर्यटकों को ठहराने के लिए विभाग पार्क में मड हाऊस यानी मिट्ठी के घर बना रहा है। साथ एडवेंचर्स एक्टिविटी करने वालों के लिए कैम्प फायर की सुविधा भी रहेगी। फिलहाल इन सुविधाओं को जुटाने में विभाग को पंद्रह से बीस दिन का समय अभी और लगेंगा।

पार्क में प्रवेश करने के लिए पर्यटकों को बीस रूपये का शुल्क देना होगा। मुख्यालय से प्रवेश शुल्क को मंजूरी मिल चुकी है। पार्क में दस हजार पौधों की नर्सरी भी बनाई है।जंगल में लगाए जाने के अलावा कुछ खूबसूरत पौधें भी रखे जाएंगे। पर्यटकों के लिए मल्टीपल ट्रैक है, जिसमें जंगल देखने वालों के लिए दो किमी का पैदल ट्रैक होगा।

एडवेंचर्स ट्रैकिंग करने वालों के लिए पहाड़ी पर थोड़ी ऊंचाई का ट्रैक बनाया है, जो पांच से छह किमी लंबा है। जबकि जंगल सफारी के लिए बने दस किमी में घूमने के लिए पर्यटकों को इंतजार करना होगा, क्योंकि विभाग ने कुछ महीनों बाद सफारी शुरू करने की योजना रखी है। वैसे तीन से चार स्थानों पर झोपड़ियां बनाई है। साथ ही मड हाऊस बनाए जा रहे है। इन्हें तालाबों के आस-पास बनाया जा रहा है। ताकि पर्यटक रात में रुक सकेंगे। रेंजर जयवीर सिंह का कहना है कि जल्द ही पौधो पर क्यूआर कोड लगाएंगे। ताकि पौधों से जुड़ी जानकारी पर्यटकों को मिल सके।

दरें तय करना बाकी

मड हाऊस और टेंट की सुविधा भी पर्यटकों के लिए रखेंगे। इसकी दरें तय करना बाकी है। वैसे जंगल सफारी के लिए पर्यटकों का रूझान देखने के बाद जप्सी चलाएंगे। उसमें थोड़ा समय लगेंगा।

नरेंद्र पंडवा, डीएफओ, इंदौर वनमंडल

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close