राजफाश : दर्जी व डिलीवरी बॉय के नाम निकले बुलढाणा को-ऑपरेटिव बैंक में चार खाते, सट्टे की रकम भी जमा करवाते थे आरोपित, दलाल व दाल-कॉटन कारोबारी गिरफ्तार, महिला बैंक मैनेजर फरार

इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। अन्नापूर्णा थाना पुलिस ने कॉटन कारोबारी गौरव काकाणी व दाल कारोबारी सचिन खंडेलवाल, नितिन खंडेलवाल और दलाल मनोज खंडेलवाल को गुरुवार को गिरफ्तार किया है। आरोपितों ने दर्जी राजेश सिंह और डिलीवरी बॉय विनोद पाटीदार के नाम से बुलढाणा बैंक में खाते खुलवाकर 20 करोड़ रुपये का ट्रांजेक्शन किया था। पुलिस का दावा है कि आरोपितों ने इन खातों के जरिए कालेधन को सफेद किया है। फर्जीवाड़े में बैंक मैनेजर वीनिशा चांडक व फर्जी सीए पीयूष आहूजा भी शामिल हैं।

एसपी (पश्चिम) महेशचंद जैन के मुताबिक, गिरफ्तार आरोपित गौरव काकाणी ने धनश्री एवं सारंग टे्रडर्स नाम से ट्रेडिंग कंपनियां बनाई थीं। इनका पता कृष्णबाग कॉलोनी दर्शाया और प्रोपराइटर्स में विनोद व राजेश का नाम लिख दिया। बैंक मैनेजर वीनिशा से मिलीभगत कर दोनों के चार फर्जी खाते भी खुलवाए दिए। विगत दो वर्षों में गौरव ने इन खातों में करीब 20 करोड़ रुपये का ट्रांजेक्शन कर लिया। इसमें करोड़ों रुपये महू में पकड़ा ऑनलाइन सट्टा (धनगेम) में जीते थे। इसे जमा करवाने के बाद विभिन्ना खातों में रुपये ट्रांसफर कर निकाल लिए जाते थे। इन खातों से नितिन व सचिन खंडेलवाल ने भी करोड़ों रुपये जमा किए व निकाले हैं। मामले में फर्जी सीए पियूष आहुजा फिलहाल जेल में बंद है।

सट्टे की जांच करते हुए कारोबारियों तक पहुंची थी पुलिस

सीएसपी (प्रोबेशनर आइपीएस) पुनित गेहलोद के मुताबिक, ऑनलाइन सट्टे की जांच के दौरान महू पुलिस राजेश व विनोद के खातों तक पहुंच गई। दोनों को हिरासत में लिया तो उनकी माली हालत देख अफसर चौंक गए। उन्होंने बुलढाणा बैंक में खाता खुलवाने से इन्कार कर दिया। जब वीनिशा से पूछताछ की तो बताया कि खाते गौरव काकाणी ऑपरेट कर रहा है। रुपये निकालते वक्त राजेश व विनोद के हस्ताक्षर करता है। पुलिस ने गौरव को बुलाया तो कहा कि उसने परिचित मनोज खंडेलवाल को डेढ़ लाख रुपये देकर राजेश व विनोद के नाम से खाते खुलवाए थे।

दलाल ने बनवाया गुमाश्ता लाइसेंस, फर्जी कंपनी भी खुलवाई

सीएसपी के मुताबिक, मनोज खंडेलवाल नगर निगम में दलाली करता है। दो साल पूर्व फूड कंपनी के डिलीवरी बॉय विनोद से परिचय हुआ था। उसने कहा कि तेल, कपास, दाल व्यवसाय के लिए तुम्हारे नाम से खाता खुलवा दूंगा। उसके बदले हर वर्ष 50 हजार रुपये दूंगा। मनोज ने पैन, आधार कार्ड व फोटो लेकर सपना-संगीता स्थित एक बैंक में खाता खुलवा दिया। कुछ समय बाद विनोद के जरिए राजेश से मिला और उसके भी दस्तावेज ले लिए। टैक्स, बैंक के नाम का झांसा देकर दोनों के नाम से सिम भी इश्यू करवा ली। आरोपित ने गौरव काकाणी से डेढ़ लाख रुपये लेकर खाते सौंप दिए। गौरव ने फर्जी तरीके से बुलढाणा बैंक में भी खाते खुलवा लिए।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस