इंदौर। ओंकारेश्वर में रविवार को पिकनिक मनाने गए परिवार के दो भाई (ममेरे-फुफेरे) ब्रह्मपुरी घाट के पास नर्मदा में डूब गए। दोनों पुराने झूला पुल के नीचे नहा रहे थे। इंदौर से होमगार्ड की टीम और गोताखोर दोनों को तलाश रही है।

रविवार सुबह नादिया नगर निवासी बुद्धिलाल शर्मा, भाई कमलकांत, पत्नी छाया, दो बेटियां और फुफेरा भाई अमित पिकनिक के लिए कार से ओंकारेश्वर निकले थे। सभी नर्मदा में नहा चुके थे। कमल और अमित दोबारा नहाने के लिए पुराने झूला पुल के नीचे पहुंचे। इस दौरान कमल का पैर फिसला। अमित पास में ही नहा रहा था। कमल ने खुद को बचाने के लिए अमित का हाथ पकड़ा। अमित भी लड़खड़ाया। उसका पैर फिसला और दोनों तेज बहाव के साथ गहरे पानी में बहते चले गए।

भाई बुद्धिलाल ने उन्‍हें बचाने की भी कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हो पाए। उनका परिवार मदद के लिए चीखता रहा। चंद सेकंड में ही दोनों नजरों से ओझल हो गए। गोताखोरों ने देर शाम तक तलाश की। 5 किमी दायरे में प्रशासन ने दोनों को तलाशा। पुलिस के मुताबिक दोनों को गहरे पानी में खोह और पत्थरों की ओट में तलाशा गया। करीब 5 किमी के दायरे में नाव और स्टीमर में आंकड़ी लगाकर उन्‍हें ढूंढा गया, लेकिन वे नहीं मिल पाए।

दोनों परिवारों को उम्मीद

अमित मूलत: मुरैना का रहने वाला है। यहां स्कीम 74 मंे रहकर निजी कॉलेज से बीबीए की पढ़ाई कर रहा है। परिवार में माता-पिता, एक भाई व एक बहन है। पिता राजेंद्र प्रसाद मुरैना में शिक्षा विभाग में पदस्थ हैं जबकि कमल के पिता देवास कलेक्टोरेट में हैं। उसकी सुखलिया में साड़ी की दुकान थी, जिसे कुछ दिन पहले ही उसने बंद की थी। परिजन को उम्मीद है कि दोनों घर आएंगे।

पता नहीं चला

स्थानीय गोताखोरों के साथ ही इंदौर से भी रेस्क्यू टीम आई है। शाम तक दोनों युवकों का पता नहीं चल सका। 1 जनवरी को भी इसी घाट पर देवास के वैभव शर्मा की डूबने से मौत हो गई थी। -टीआई जेएस भास्कर

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket