इंदौर, नईदुनिया। देश के बाजार में बढ़ती प्याज की कीमतों पर सरकार की नजर है। कीमतें बेकाबू होने से पहले ही उचित कदम उठाए जाएंगे। यह कहना है केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर का। तोमर भरोसा जता रहे हैं कि केंद्र सरकार प्याज की कीमतों पर नियंत्रण पाने में कामयाब होगी। हालांकि ग्वालियर-चंबल के कद्दावर भाजपा नेता के रूप में पहचाने जाने वाले तोमर उपचुनाव में भाजपा को मिलने वाली सीटों पर कयास लगाने से बच रहे हैं। नईदुनिया से खास बात करते हुए तोमर ने यह भी कहा कि सिंधिया का भाजपा में आना उनके प्रभाव को चुनौती देने वाला नहीं बल्कि पार्टी के प्रभाव को बढ़ाने वाला कदम है।

कृषि मंत्री तोमर ने कहा कि प्याज की मांग आपूर्ति और कीमतों में किसी भी तरह का असंतुलन पैदा होगा तो सरकार संज्ञान लेगी। आवश्यक वस्तुओं और खाद्यान्य की कीमतों व आपूर्ति सामान्य बनाए रखने के लिए अपेक्षित कार्रवाई समय-समय पर करती है। इस संबंध में हर 15 दिनों में एक बैठक आयोजित होती है। इसमें निर्णय लिया जाता है कि यदि किसी वस्तु की कमी है तो उसका आयात करना है। देश में प्याज निर्यात पर तो पहले से ही रोक लगा दी गई है। अब आवश्यकता महसूस करने पर आगे और भी कदम उठाए जाएंगे।

ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा का दामन थामने के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि यह ग्वालियर-चंबल संभाग में तोमर के प्रभाव को चुनौती देने वाला है। इस बारे में सवाल करने पर केंद्रीय मंत्री तोमर ने नईदुनिया से कहा कि भाजपा व्यक्तिवादी पार्टी नहीं है। भाजपा में सामूहिक नेतृत्व है और अपनी कार्यपद्धती है। भाजपा में कोई भी व्यक्ति न किसी का कद कम करता है न ही बढ़ा सकता है। व्यक्ति का कृतित्व और उसकी स्वाभाविक स्वीकार्यता के साथ कार्यकर्ता की धारणा ही पार्टी में उसके कद का निर्धारण करती है। हम हमेशा सलंग्न रहते हैं कि पार्टी का और विस्तार हो सके।

सिंधिया के आने से संगठन की व्यापकता बढ़ी है इसका लाभ पार्टी को मिलेगा। विधानसभा उपचुनावों में भाजपा को मिलने वाली सीटों के बारे में किसी तरह का अनुमान लगाने से तोमर बचते दिख रहे हैं। इस बारे में सवाल करने पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सीट के मामले में पूर्वानुमान लगाना ज्योतिष का काम है। पार्टी के कार्यकर्ता सभी 28 सीटों पर जीत के लिए प्रयास कर रहे हैं। 15 महीने में जनता ने कांग्रेस को परख लिया। अब समय भाजपा के लिए अनुकूल है। जनता ने समझ लिया है आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश भाजपा के नेतृत्व में ही हो सकता है।

कोरोना के कारण कमजोर हुई अर्थव्यवस्था और परिस्थियों का असर चुनाव परिणामों में भाजपा के विरोध में जा सकता है? इस सवाल पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि लॉकडाउन से अर्थव्यवस्था काफी प्रभावित हुई यह सच है। लेकिन अब हर सेक्टर में कामकाज अच्छी स्थिति में आ गया है। प्रवासी मजदूर भी लौट कर आ चुके हैं। हिंदुस्तान बड़े-बड़े संकटों से निकला है कोविड के संकट से भी निकल जाएगा। मोदीजी की नीति से हम कोविड से देश को बचाने में सफल रहे। इसकी सराहना पूरी दुनिया में हुई है। तोमर के अनुसार चुनाव आयोग ने उपचुनावों के लिए काफी व्यवस्था की है। ताकि लोग वायरस के संक्रमण से बचकर अपने मताधिकार का उपयोग कर सकें।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस