इंदौर। दिगंबर जैन श्रद्धालुओं को श्रवणबेलगोला के भगवान बाहुबली के दर्शन अब इंदौर में भी हो सकेंगे। पीथमपुर रोड स्थित नवनिर्मित सर्वोदय तीर्थ पर 5 फीट ऊंची और 50 टन वजनी कमलस्वरूप वेदी पर 31 फीट की भगवान की खडगासन मूर्ति को क्रेन से विराजित किया गया। यहां काले पत्थर की कृत्रिम पहाड़ी तैयार की जाएगी।

प्रतिमा का निर्माण 60 दिन में जयपुर के कारीगरों ने किया। प्रतिमा के आने के बाद से ही जैन श्रद्धालु यहां दर्शन के लिए आना शुरू हो गए। अखिल भारतीय पुलक जन चेतना मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रदीप बड़जात्या ने बताया कि आचार्य शिवसागर महाराज और आचार्य निजानंद सागर महाराज के मार्गदर्शन में मूर्ति विराजित की गई।

संरक्षक कमल रांवका ने बताया कि तीन दिन की कड़ी मेहनत के बाद शुक्रवार रात 2.30 बजे मूर्ति विराजित हुई। दक्षिण भारत में श्रवणबेलगोला तीर्थ पर बाहुबली भगवान की सबसे बड़ी प्रतिमा विराजमान है। अब मध्य भारत में सर्वोदय तीर्थ पर भी ऐसी प्रतिमा विराजित हुई है। 12 से 18 फरवरी तक पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महामहोत्सव होगा। इसमें 18 फरवरी से ही महामस्तकाभिषेक किया जाएगा। इस तीर्थ पर मात्र 84 दिन में जमीन से लेकर पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव एवं महामस्तकाभिषेक होने जा रहा है जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है। इस अवसर पर शिरीष जैन, हेमू बड़जात्या, पारस सीमा जैन, मुकेश जैन, सुनील सपना गोा, दिलीप रत्नावत, नीता जैन, अनामिका बाकलीवाल आदि मौजूद थे।

Posted By: