Indore Court News: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के वार्षिक चुनाव अब सिर्फ एक सप्ताह दूर हैं। 29 सितंबर 2022 गुरुवार को मतदान होना है। प्रत्याशी जोरशोर से अपने प्रचार में लगे हैं। इधर हाई कोर्ट बार एसोसिएशन की मतदाता सूची प्राप्त नहीं होने की वजह से जिला न्यायालय में इंदौर अभिभाषक संघ के वार्षिक चुनाव अटक गए हैं। सुनने में भले ही यह कुछ अजीब लगे लेकिन सही है। दरअसल पांच वर्ष पहले हाई कोर्ट ने वन बार वन वोट सिद्धांत के आधार पर अभिभाषक संघों के चुनाव कराने के आदेश दिए थे।

अभिभाषक भले ही एक से अधिक अभिभाषक संघ के सदस्य हों लेकिन वे मतदान किसी एक ही संघ के लिए कर सकेंगे। इंदौर में वर्तमान में आठ हजार के लगभग अभिभाषक हैं। इनमें से सैंकड़ों हैं जो इंदौर अभिभाषक संघ और हाई कोर्ट बार एसोसिएशन दोनों के सदस्य हैं, लेकिन उन्होंने पिछले चुनाव में मतदान के लिए हाई कोर्ट या जिला न्यायालय दोनों में से किसी एक को चुना था। इनमें से कई अभिभाषक इस बार विकल्प बदल चुके हैं। यानी इन अभिभाषकों ने पिछले चुनाव में जिला न्यायालय में मतदान किया था लेकिन इस बार उन्होंने हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के चुनाव में मतदान का निर्णय लिया है। वे इस संबंध में राज्य अधिवक्ता परिषद को बता भी चुके हैं।

इसके बाद उनके नाम हाई कोर्ट बार एसोसिएशन की अंतिम मतदाता सूची में शामिल भी हो गया, लेकिन दिक्कत यह है कि इन अभिभाषकों की जानकारी इंदौर अभिभाषक संघ कार्यालय को है ही नहीं। यानी इनके नाम अब भी इंदौर अभिभाषक संघ की प्रारंभिक मतदाता सूची में शामिल है। इंदौर अभिभाषक संघ के सचिव कपिल बिरथरे के अनुसार ऐसे अभिभाषकों की संख्या 50 से ज्यादा है। हमने हाई कोर्ट बार एसोसिएशन से वहां की अंतिम मतदाता सूची देने के लिए कहा है ताकि हम इंदौर अभिभाषक संघ की मतदाता सूची में संशोधन कर सकें। अंतिम मतदाता सूची प्रकाशित नहीं होने की वजह से निर्वाचन की अधिकारिक घोषणा नहीं हो पा रही है। उम्मीद है कि जैसे ही मतदाता सूची तय होगी चुनाव कार्यक्रम घोषित हो जाएगा।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close