इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि), Indore Market News। भिंडी का भाव सिर्फ 6 से 10 रुपये किलो, ककड़ी भी 6 रुपये से ज्यादा नहीं... शिमला मिर्च 16 स्र्पये तो बैंगन केवल दो रुपये किलो। गोभी का गर्व भी चूर-चूर है... 4-5 रुपये मिल जाए तो हद है, धनिया 5-6 रुपये पर थमा है। किसान गाड़ी भरकर मंडी में माल लाता है और जब घर जाता है तो जेब भी पूरी नहीं भराती। मंडी से निकलकर यही सब्जियां जब शहर में पहुंचती हैं तो इनको कीमत के पंख लग जाते हैं। ये सब्जियां चार गुना तक महंगी बिकने लगती हैं।

सब्जियों के इस बाजार में किसान असहाय है। वह बिचौलियों के दांव-पेच का शिकार हो रहा है और मंडी प्रशासन ...? कहने भर को है। यह हकीकत है प्रदेश की सबसे बड़ी देवी अहिल्याबाई होलकर सब्जी मंडी की जिसे बोलचाल में चोइथराम मंडी भी कहा जाता है। दो दिन पहले बड़वानी जिले के सजवानी गांव के किसान विनोद सेप्टा की गिलकी मात्र डेढ़ रुपये किलो में बिकी, जबकि बाजार में यही गिलकी 40 स्र्पये किलो बिक रही है। नईदुनिया की पड़ताल में सामने आया कि गिलकी ही नहीं, इस समय अन्य सब्जियों के भी उचित दाम नहीं मिल पा रहे हैं।

किसानों का भाड़ा भी नहीं निकल रहा

इंदौर मंडी में आसपास के गांवों के अलावा बड़े पैमाने पर निमाड़ से सब्जियां आती हैं। गिलकी, भिंडी, बैंगन और लौकी की हालत तो यह है कि इसकी गाड़ी का भाड़ा भी किसानों को नहीं मिल पा रहा है। किसान पन्नी में सब्जी बेचने लाते हैं। एक पन्नी में 20 किलो सब्जी आती है और इसका गाड़ी भाड़ा 30 रुपये लगता है। इसके अलावा हम्माली और तुलाई के पांच रुपये पन्नी अलग से हैं। इस तरह मंडी तक सब्जी लाने और बेचने का शुल्क ही 35 रुपये तक जाता है, जबकि फिलहाल एक पन्नी सब्जी ही लगभग इतने में बिक रही है।

निमाड़ क्षेत्र के किसान मदन कुशवाह का कहना है कि बारिश, धूप और सर्दी सहन करके किसान सब्जियां पैदा कर रहा है और मंडी पहुंचता है तो बेभाव बिक जाती हैं। किसान रमेश पाटीदार ने बताया कि व्यापारी और आढ़तिये तो अपना मुनाफा निकाल लेते हैं, लेकिन किसान का घाटा कौन भरेगा।

यह है मुनाफाखोरी: किसान से सस्ते में, उपभोक्ता को महंगे में

सब्जी मंडी में किसान से (रु./ कि.) शहर में उपभोक्ता को (रु./ कि.)

गोभी 4 20

भिंडी 6-10 20-25

टमाटर 24 40

हरी मिर्च 25 40

गिलकी 3-5 25-40

ककड़ी 5-6 20-25

मटर 30-35 60

धनिया 5-6 30

ग्वारफली 10 30

Posted By: sameer.deshpande@naidunia.com

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस