इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने जिसे समाजसेवी के रूप में सम्मानित किया था मंगलवार को उसे मादक पदार्थ की तस्करी के आरोप में विशेष न्यायालय ने 15 साल कठोर कारावास की सजा से दंडित किया। आरोपित नकली मेडिकल लाइसेंस के जरिए दवाई के नाम पर बेंगलुरु से अल्प्राजोलम बुलवाता था और बाद में इसे नशे के बाजार में महंगे दाम पर बेच देता था। केंद्रीय नारकोटिक्स ब्यूरो ने जिस दिन उसे गिरफ्तार किया उस दिन वह 50 किलो अल्प्राजोलम की डिलीवरी देने जा रहा था।

आरोपित का नाम ठाकुरसिंह पुत्र बापूसिंह मकवाना निवासी रेसकोर्स रोड इंदौर और उसका साथी संतोष पुत्र पीतांबर झा निवासी पाटनीपुरा इंदौर है। केंद्रीय नारकोटिक्स ब्यूरो को 5 मार्च 2013 को मुखबिर से सूचना मिली थी कि बगैर नंबर की कार में बैठकर एक व्यक्ति गोम्मटगिरि के पास देपालपुर रोड पर मंदसौर के किसी तस्कर से अल्प्राजोलम का भारी मात्रा में सौदा करने जाने वाला है। सूचना के आधार पर नारकोटिक्स की टीम ने कार्रवाई की और आरोपित ठाकुरदास मकवाना को 50 किलोग्राम अल्प्राजोलम के साथ गिरफ्तार कर लिया। उस वक्त उसके साथ आरोपित संतोष झा भी मौजूद था। ठाकुरदास यह मादक पदार्थ मंदसौर के एक तस्कर को बेचने जा रहा था। उसने इसका सौदा महंगे दाम पर किया था। नारकोटिक्स ब्यूरो ने आरोपितों को हिरासत में लेकर मामले की जांच की तो पता चला कि आरोपित ठाकुरदास नकली मेडिकल लाइसेंस के नाम पर बेंगलुरु की एक कंपनी से अल्प्राजोलम बुलवाता था। बाद में वह इस मादक पदार्थ को तस्करों को बेच देता था।

15 गवाहों के बयान हुए - अभियोजन की तरफ से विशेष लोक अभियोजक निर्मल कुमार मंडलोई और एडवोकेट राकेश पालीवाल ने पैरवी की। प्रकरण में अभियोजन की तरफ से 15 गवाहों के बयान करवाए गए। एजीपी मंडलोई ने बताया कि नारकोटिक्स ब्यूरो की जांच में यह बात भी सामने आई कि आरोपित ठाकुरदास बेंगलुरु की कंपनी को भुगतान करने के लिए आरोपित संतोष के बैंक खाते का इस्तेमाल करता था। विशेष न्यायाधीश राकेश बंसल ने मंगलवार को आरोपित ठाकुरदास और संतोष को 15-15 साल कठोर कारावास की सजा सुनाई। कोर्ट ने आरोपितों पर डेढ़-डेढ़ लाख रुपये अर्थदंड भी लगाया है।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local