कपिल नीले, इंदौर। इंदौर सहित मध्य प्रदेश के जंगलों में पाए जाने वाले वन्यजीव पेंगोलिन की तस्करी कर करोड़ों कमाने वाले तस्करों पर शिकंजा कसने की तैयारी है। इनकी संपत्ति की जांच में एनफोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ईडी) भी मदद करने जा रहा है। इसके लिए स्टेट टाइगर स्ट्राइक फोर्स (एसटीएसएफ) ने पेंगोलिन और कछुए की तस्करी की जानकारी ईडी के अधिकारियों से साझा की है। एसटीएसएफ ने बीते पांच साल में पेंगोलिन तस्करी के 14 प्रकरण दर्ज कर 160 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया है। पेंगोलिन की तस्करी में म्यांमार की एक महिला को भी पकड़ा है। अधिकारियों के मुताबिक पेंगोलिन की मांग चीन में सबसे ज्यादा है।

इंदौर, धार में मिल चुके हैं पेंगोलिन : इंदौर और धार के जंगलों में पेंगोलिन मिल चुका है। वन अफसरों के मुताबिक मध्य प्रदेश के बालाघाट, सिवनी, छिंदवाड़ा, ग्वालियर, जबलपुर, भोपाल, सागर में ये पाए जाते हैं।

दवा में होता है इस्तेमाल

चीन, वियतनाम के लिए पेंगोलिन की बड़े पैमाने पर तस्करी होती है। वहां इसके खून, हड्डियां, खाल सहित अन्य अंगों का इस्तेमाल कैंसर व नपुंसकता जैसी बीमारी की दवाइयों के लिए किया जाता है। अंतरराष्ट्रीय गिरोह भी सक्रिय है, जो स्थानीय लोगों की मदद से पेंगोलिन को बार्डर पार भिजवाते हैं।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर लिया फैसला

तस्करी से जुड़े अधिकांश मामले सुप्रीम कोर्ट में चल रहे हैं, जिनमें एक प्रकरण में कोर्ट ने एसटीएसएफ को तस्करों की काली कमाई की जांच करने को कहा है। इसके बाद वन विभाग मुख्यालय पर अधिकारियों ने तस्करी से जुड़े मामलों की सूची बनाई, जिसमें करोड़ों की कमाई सामने आई है। फिर ईडी व एसटीएसएफ के अधिकारियों के बीच बैठक हुई। पेंगोलिन, कछुए व खैर की तस्करी में दर्ज प्रकरण बताए गए। ईडी ने 14 प्रकरणों में से पेंगोलिन के दो मामलों में जांच करने पर सहमति जताई है।

म्यांमार से पकड़ी गई थी महिला

पेंगोलिन तस्करी में बालाघाट, छिंदवाड़ा, सिवनी, सतपुड़ा, ग्वालियर में एक-एक प्रकरण दर्ज हुआ है। पेंगोलिन को बंगाल से होते हुए नेपाल और मिजोरम से होते हुए म्यांमार के रास्ते चीन पहुंचाया जाता है। 2016 में 55 वर्षीय महिला तस्कर लुआगुद्दीन को म्यांमार से पकड़ा था। इसके बाद अवैध व्यापार में उत्तर प्रदेश के फतेहपुर से मो. अहमद को गुरुग्राम से पकड़ा था। करीब 14 प्रकरणों में 160 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। स्थानीय लोगों से पांच हजार में पेंगोलिन खरीदकर तस्कर अंतरराष्ट्रीय बाजार में 60 से 70 लाख रुपये में बेचते हैं।

तस्करों की संपत्ति करेंगे जब्त

पेंगोलिन तस्करी के प्रकरणों के बारे में ईडी से जानकारी और डाटा शेयर किया है। फिलहाल ईडी के अधिकारियों ने पेंगोलिन प्रकरणों की जांच करने पर सहमति दी है। संपत्ति की जांच के बाद इन्हें जब्त किया जाएगा। - रितेश सरोठिया, प्रभारी, एसटीएसएफ (वन विभाग)

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags