महू-चंद्रावतीगंज। पिछले कुछ दिनों से लापता पत्नी को ढूंढने जब युवक ससुराल पहुंचा तो ससुर ने विवाद किया और पेट्रोल डालकर आग लगा दी। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उपचार के दौरान मौत हो गई। उधर मृतक के परिजन ने आरोप लगाया कि ससुर ने बड़े जमाई व बेटी के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया। पुलिस ने ससुर के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है। चंद्रावतीगंज पुलिस के अनुसार, द्वारकापुरी इंदौर के प्रजापत नगर निवासी गोविंद धुमानिया (32) की पत्नी बुलबुल कुछ दिनों से लापता थी। परेशान पति ने सभी जगह तलाशा, नहीं मिलने पर 9 जनवरी को ससुराल बलगारा गांव गया। यहां ससुराल वालों से उसके बारे में पूछताछ की। इस दौरान उसका ससुर मुन्नालाल से विवाद हो गया। इस दौरान ससुर ने गोविंद पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी। इसमें गोविंद गंभीर रूप से जल गया। उसे तत्काल अस्पताल ले जाया गया। उपचार के दौरान 11 जनवरी को मौत हो गई। चिकित्सकों ने बताया कि वह 45 प्रतिशत जल गया था। गोविंद चादर बेचने का काम करता था तथा उसका विवाह 2015 में हुआ था।

परिजन का आरोप

गोविंद के भाई श्रवण धुमानिया ने आरोप लगाया कि घटना के समय ससुर मुन्नालाल के साथ बड़ा दामाद पप्पू व गोविंद की पत्नी बुलबुल भी थी। श्रवण ने बताया कि भाई गोविंद व भाभी बुलबुल के बीच कि सी बात को लेकर अक्सर विवाद होता रहता था। इसी के चलते वह बीस दिन पूर्व बिना बताए ढाई साल के बेटे को घर पर छोड़कर चली गई थी। श्रवण ने कहा कि पप्पू ने ही कु छ दिन पूर्व समझौता करने के लिए उसे घर बुलाया था। भाभी बुलबुल मायके में ही थी। वहां बातचीत के दौरान तीनों ने एकजुट होकर घटना को अंजाम दिया। ऐसा गोविंद ने मरने के पूर्व हमें बताया था। हमने तत्काल इसकी सूचना दी मगर पुलिस ने कार्रवाई करने में देरी की।

Posted By: Nai Dunia News Network