Indore News: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कलेक्टर की जनसुनवाई में मंगलवार को तब हड़कंप मंच गया, जब आवेदकों की लाइन में बैठे पाटनीपुरा निवासी दिव्यांग नितिन गागोदिया ने जहरीला पदार्थ पीने की बात करते हुए हल्ला कर दिया। दिव्यांग की आवाज सुनकर सुरक्षा गार्ड तुरंत उसे एमवाय लेकर पहुंचे। युवक अपने साथ पानी की बाटल में कुछ मिलाकर लाया था। सुरक्षा गार्ड जांच के लिए बाटल लेकर अस्पताल पहुंचे। डाक्टरों का कहना है कि बाटल में तंबाकू का पानी और एलर्जिक गोलियां घोल रखी थीं।

डाक्टरों के अनुसार उसकी हालत ठीक है और वह खतरे से बाहर है। युवक चलने फिरने में अपंगता (लोकोमोटर डिसेबिलिटी) से ग्रसित था। जनसुनवाई में पहुंचीं गोरा बडोले और सोमती चौधरी ने दिव्यांगता के कारण आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने का हवाला देकर सहायता की मांग की। कलेक्टर ने तुरंत दोनों को मोटोराइज्ड दो पहिया वाहन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। साथ ही 10-10 हजार रुपये की आर्थिक सहायता भी रेडक्रास से स्वीकृत कर दी। सोमती ने प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने की इच्छा जाहिर की तो कलेक्टर ने निश्शुल्क तैयारी कराने के अधिकारियों को निर्देश दिए।

सर्जरी के लिए मांगी सहायता

जनसुनवाई में सुरेश परमार छह साल के बेटे धनराज की सर्जरी के लिए आर्थिक सहायता की मांग लेकर पहुंचे थे। सुनने बोलने में असमर्थ धनराज की काक्लियर इंप्लांट सर्जरी की जाना है। इसके लिए 6.50 लाख रुपये की जरूरत है। कलेक्टर ने अधिकारियों को वित्तीय सहायता के लिए राज्य सरकार को आवेदन भेजने ओर सर्जरी में छूट दिलाने के लिए अस्पताल से संपर्क करने के निर्देश दिए।

Posted By: Sameer Deshpande

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close