इंदौर। एक युवक ने जहर खाकर जान दे दी। प्रेमी की मौत की खबर सुनकर प्रेमिका ने आत्महत्या की कोशिश की। युवती के माता-पिता कमरे में पहुंचे और फंदे से उतारकर उसे इलाज के लिए अस्पताल ले गए। वहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

युवती के परिजन का कहना है कि मानसिक हालत ठीक नहीं होने की वजह से बेटी ने खुदकुशी का प्रयास किया है। जबकि युवक के परिजन का कहना है कि प्रेमी युगल में गुरुवार को किसी बात पर विवाद हो गया था। इसके बाद युवती के परिजन घर पर आकर परिजन और युवक को धमका कर गए थे।

चंदन नगर पुलिस के अनुसार घटना चांद मारी ईंट का भट्टा इलाके की है। टीआई राहुल शर्मा ने बताया कि रोहित (18) पिता बाबूलाल यादव ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली। शुक्रवार सुबह उसका भाई संतोष उसे कमरे में उठाने गया तो रोहित उसे बेसुध पड़ा मिला था। इसके बाद परिजन रोहित को इलाज के लिए जिला अस्पताल लेकर गए थे। वहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था। मृतक नावदापंथ इलाके की किसी ऑइल फैक्टरी में पैकिंग का काम करता था।

पड़ोसियों से पूछताछ में पता चला कि मृतक का किसी युवती से पांच महीने से प्रेम प्रसंग चल रहा था। युवक की मौत की खबर सुनने के बाद युवती ने भी आत्महत्या का प्रयास किया है। मामले की जांच की जा रही है। मृतक की गुरु बहन ममता धुर्वे का कहना है कि गुरुवार दोपहर रोहित उसे गुजराती कॉलोनी में मिला था। पूछने पर बताया था कि वह युवती को उसके घर छोड़कर लौटा है। ममता के अनुसार प्रेम प्रसंग की वजह से रोहित कई दिनों से काम पर भी नहीं जा रहा था। दोनों के बीच बातचीत के दौरान युवती का युवक के पास फोन भी आया था। दोनों में फोन पर किसी बात पर विवाद भी हो गया था।

युवती के परिजन घर पर आए थे धमकाने

रोहित के भाई संतोष का कहना है कि प्रेमी युगल में गुरुवार शाम किसी बात पर फोन पर विवाद हुआ था। इसके बाद युवती अपने परिजन को लेकर घर आई थी। उसके माता-पिता परिजन को धमका कर चले गए थे। उस समय भाई (मृतक) अपने कमरे में थे। युवती के परिजन के जाने के बाद वह भाई को खाना खाने के लिए उठाने गया था। लेकिन भाई नहीं उठा था।

शुक्रवार सुबह करीब 7 बजे दोबारा भाई को उठाने गया तो वह बेसुध हालत में बिस्तर में पड़ा था। उसके मुंह से झाग निकल रहा था। इसके बाद परिजन के साथ भाई (मृतक) को इलाज के लिए जिला अस्पताल लेकर गए थे। भाई की मौत की खबर सुनकर युवती के परिजन दोबारा घर पर धमकाने आए थे। उन्होंने धमकाया था कि अगर रोहित की मौत में बेटी का नाम आएगा तो अच्छा नहीं होगा।

फंदे से उतार कर बेटी को लेकर पहुंचे अस्पताल

19 वर्षीय युवती के पिता का कहना है कि गुरुवार को बेटी के फोन पर किसी महिला का फोन आ रहा था। पता चला कि रोहित की मां बेटी को बार-बार फोन लगाकर परेशान कर रही थी। इस पर वह बेटी के साथ मृतक की मां को समझाने गए थे। शुक्रवार सुबह करीब 9 बजे वह घर के बाहर लगे नल से पानी भर रहे थे। बेटी और पत्नी घर के गेट पर बैठी हुई थी। इसी दौरान मां के फटकार लगाने के बाद बेटी अचानक भाग कर ऊपर के कमरे में चली गई।

पत्नी के चिल्लाने पर दंपती बेटी के पीछे भागते हुए कमरे पर पहुंच गए थे। बेटी ने अंदर से दरवाजा बंद कर लिया था। दरवाजा तोड़ा और दोनों ने उसका फंदा खोलकर नीचे उतारा। बेटी बेहोश हो गई थी। उसे लेकर एमवाय अस्पताल पहुंचे। बेटी की दो साल से मानसिक हालत ठीक नहीं है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local