इटारसी नवदुनिया प्रतिनिधि।

राशन दुकान की समिति में कथित फर्जीवाड़े की शिकायत में प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता राजकुमार केलू उपाध्याय और उनके भाई पर दर्ज मामले को लेकर पुलिस ने सूरजगंज में उनके आवास पर दबिश दी। हालांकि वे घर पर नहीं मिले। उल्लेखनीय है कि उपाध्याय के भाई पीयूष उपाध्याय के खिलाफ पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है। भाजपा के पूर्व पार्षद राकेश जाधव की शिकायत पर यह मामला दर्ज हुआ था। हालांकि कांग्रेस ने दबाव में झूठी रिपोर्ट दर्ज करने का आरोप लगाया था। इस मामले में पिछले दिनों केलू उपाध्याय का नाम भी इस प्रकरण में दर्ज किया गया। उपाध्याय का आरोप है कि राजनीतिक द्वेष भावना के चलते यह कार्रवाई की गई है।

इस मामले में शिकायतकर्ता राकेश जाधव का आरोप था कि पीयूष ने अपने भाई केलू उपाध्याय एवं अमोल उपाध्याय के साथ मिलकर 51 सदस्यीय महाराज उपभोक्ता भंडार के नाम पर समिति बनाई। अधिकांश सदस्यों के फर्जी हस्ताक्षर किए गए। छह सदस्यों ने शपथ पत्र देकर कहा था उनके जाली हस्ताक्षर लेकर समिति गठन किया गया है। यह दुकान 19 सालों से संचालित हो रही है। जाधव का यह भी आरोप है कि दुकान की आड़ में गरीबों को बांटने वाले राशन की बड़े पैमाने पर कालाबाजारी भी की गई है। जाधव एवं उपाध्याय परिवार के बीच लंबे समय से राजनीतिक लड़ाई चल रही है। कांग्रेस सरकार में उपाध्याय एवं कांग्रेस नेताओं की शिकायत पर राकेश जाधव के खिलाफ संबल योजना में गलत ढंग से पंजीयन कराने को लेकर शिकायत हुई थी, इसके बाद जाधव ने भी कांग्रेस नेता के घर के पास बन रही नाली का मुद्दा उठाया था। इस मामले में टीआई रामसनेही चौहान से बात करने का प्रयास किया गया, लेकिन उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस