इटारसी(ब्यूरो)। जिला उमरिया, गांव पाली में रहने वालीं गुड्डी, अन्नू और महालक्ष्मी की खुशी का ठिकाना ना रहा, जब उन्होंने अपनी मां को जीवत अपने सामने पाया। ये लोग अपनी मां को मृत मानकर तीन वर्ष पूर्व उनका श्राद्घ कर चुके थे। बेटियों को अपनी मां से मिलाने का कार्य पथरोटा पुलिस ने किया है। इसका जरिया जुझारपुर गांव के वे नागरिक बने, जिन्होंने बेटियों की मां को पुलिस के हवाले चोर समझकर कर दिया था। इन्होंने 18 अगस्त को इस विक्षिप्त महिला को गांव से चोर समझकर पकड़ा था और इसके पास से 68 सौ रुपए मिले थे।

पथरोटा थाने में पदस्थ एएसआई आईके सोनी ने बताया कि विक्षिप्त महिला उमरिया जिले के पाली थाना क्षेत्र की निकली। उसका नाम बेटी बाई पति भान परस्ते है। एएसआई सोनी ने बताया कि जब महिला से पूछताछ की तो वह ज्यादा कुछ बोल नहीं पा रही थी। सिर्फ हिरनताल, पाली-पाली बड़बड़ा रही थी, उसी आधार पर इंटरनेट पर पाली गांव, शहर को खोजा गया।

इस पर उमरिया जिले के पाली थाने में संपर्क किया गया, वहां से पता चला कि एक महिला तीन वर्ष पूर्व घर से 10 हजार रुपए लेकर गायब हुई थी। पथरोटा पुलिस को कुछ संभावना दिखी, क्योंकि महिला के पास भी पैसे मौजूद थे, जो कि लगभग खराब हो गए थे और पोटली में बंधे रखे हुए थे। पथरोटा पुलिस ने बताया कि परिजनों तक महिला को पहुंचाने के लिए एक आरक्षक व महिला आरक्षक को भेजा था।

हो गया था श्राद्घ

पुलिस ने बताया कि महिला के परिजनों ने महिला को मृत मानकर उसकी आत्मा की शांति के लिए उसकी तेरहवीं व श्राद्घ भी कर दिया था। जब हम उसे लेकर पहुंचे तो खूशी के कारण उनकी आंखों से आंसू निकल आए थे।

नमक और बाटी खाती थी महिला

थाने में महिला आरक्षक की मौजूदगी में पथरोटा पुलिस ने दो दिन तक महिला को रखा था, इस दौरान वह खाने में सिर्फ बाटी और नमक ही खाती थी।

यूपी के व्यक्ति को भी मिलाया परिवार से

इसी तरह उत्तर प्रदेश निवासी शिवदास पिता झिनकाउ चौधरी गांव बरईपार, पोस्ट बंशुमन थाना खलिलाबाद, जिला संतकबीर नगर को भी पथरोटा पुलिस ने अपने परिवार से मिलाया। शिवदास को अर्ध मानसिक विक्षिप्त अवस्था में पथरोटा के प्रकाश नगर से वहां के नागरिकों ने पुलिस के हवाले कर दिया था। पुलिस ने बताया कि उसके जेब से एक मोबाइल नम्बर की पर्ची निकली थी, जिसके आधार पर संपर्क किया गया और उसके परिवार तक उसे पहुंचाया।

इनका कहना है

दो विक्षिप्त लोगों को हमारी टीम द्वारा उनके परिवार से मिलाया गया। जुझारपुर से थाने लाई गई महिला की तो उसके परिजनों ने तेरहवीं तक कर दी थी।

सीपी मिश्रा, थाना प्रभारी, पथरोटा