इटारसी नवदुनिया प्रतिनिधि।

हर वर्ष ज्येषठ मास की ग्रीष्म ऋतु के साथ नौतपा की शुरूआत हो जाती है। सूर्य के रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करते ही धरती का तापमान तेजी से बढ़ने लगता है। रोहणी में सूर्य 25 मई से 8 जून तक रहेंगे। मां चामुंडा दरबार के पुजारी गुरू पं. रामजीवन दुबे ने बताया कि शुरुआती पांच दिन अधिक परेशानी भरे रहेंगे। 17 मई से हिंदी पंचांग का तीसरा महीना ज्येष्ठ शुरू हो रहा है। ये महीना 14 जून त्क रहेगा। ज्येष्ठ महीने में ही नौतपा रहता है। इस बार 25 मई से नौतपा शुरू होगा जो कि 8 जून त्क चलेगा। ज्येषठ मास के कृष्ण पक्ष की दशमी 28 मई की दोपहर में सूर्य रोहिणी नक्षत्र के प्रथम चरण में प्रवेश करेगा, उस समय सूर्य का वृषभ राशि में बुध ग्रह के साथ योग बनेगा। रोहिणी नक्षत्र का स्वामी चंद्र माना जाता है। ज्येष्ठ मास में गर्मी की अधिकता रहेगी, साथ ही बारिश आने की भी संभावना है।

नौतपा में ऐसी रहेगी ग्रहों की हालतः नौतपा आरंभ होने के पहले मेष राशि में राहु-शुक्र की युति, वृषभ राशि में सूर्य-बुध की युति, मीन राशि में मंगल-चंद्र और गुरु की युति रहेगी। कुंभ राशि में शनि रहेगा केतुल तुला राशि में रहेगा। राहु-शुक्र की केतु पर दृष्टि रहेगी। 26 मई की रात चंद्र का राशि परिवर्तन होगा और मीन राशि की तीन ग्रहों की युति समाप्त हो जाएगी। इन दिनों में व्रत-उपवास और पूजा-पाठ के साथ ही जल दान करने से पुण्य फल प्राप्त होगा। ज्येष्ठ मास में मंदिरों में ठाकुर जी यानि बाल गोपाल को कपूर-चंदन का लेपन किया जाता है, जिससे भगवान को शीतलता मिलती रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close