जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मध्यप्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी के सतपुड़ा ताप विद्युत गृह सारनी की 250 मेगावाट स्थापित क्षमता की यूनिट ने 200 दिन लगातार चलने का कीर्तिमान स्थापित किया है। सारनी तापगृह की इकाई क्रमांक 11 ने तमाम विपरीत परिस्थि‍तियों के बीच लगातार विद्युत उत्पादन किया है। यह इकाई 30 अक्टूबर 2021 से अभी तक निर्बाध बिजली उत्पादन कर रही है। इस दौरान यूनिट का प्लांट अवलेबिलिटी फेक्टर (पीएएफ) 100.71 प्रतिशत, प्लांट लोड फेक्टर (पीएलएफ) 91.9 प्रतिशत, ऑक्जलरी कंजम्पशन 7.9 प्रतिशत, विश‍िष्ट कोल खपत 0.63 किलोग्राम प्रति यूनिट व व‍िश‍िष्ट तेल खपत 0.02 मिली लीटर प्रति यूनिट रही। उल्लेखनीय है कि सतपुड़ा ताप विद्युत गृह सारनी की यह यूनिट 16 मार्च 2014 को क्र‍ियाशील हुई थी। मध्यप्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, प्रमुख सचिव ऊर्जा संजय दुबे एवं मध्यप्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी के प्रबंध संचालक मनजीत सिंह ने सतपुड़ा ताप विद्युत गृह सारनी की यूनिट 11 द्वारा 200 दिनों के सतत् विद्युत उत्पादन के कीर्तिमान पर हर्ष व्यक्त किया है। उन्होंने सतपुड़ा ताप विद्युत गृह सारनी के समस्त अभ‍ियंताओं व कार्मिकों को उनके सामूहिक प्रयास, लगन व समर्पण के लिए बधाई देते हुए आशा व्यक्त की है कि भविष्य में भी सारनी ताप विद्युत गृह बिजली उत्पादन के नए कीर्तिमान स्थापित करने की दिशा में अग्रसर होगा।

बिजली की मांग 12 हजार के आसपास

बिजली की मांग लगातर 11500 से 12 हजार मेगावाट के आसपास बनी हुई है। ऐसे में बिजली का उत्पादन बढ़ाने का प्रयास लगातार किया जा रहा है। कोयले की कमी के बावजूद मप्र पावर जनरेटिंग कंपनी की तरफ से बिजली का उत्पादन बढ़ाने के लिए इकाईयों को चलाया जा रहा है। अमरंकटक ताप गृह की इकाई 210 मेगावाट की है जिसमें इससे अधिक ही बिजली बनाई जा रही है। सारनी की कुछ इकाईयों को सेवानिवृत्त करने की तैयारी हो चुकी है इस वजह से उनसे बिजली का उत्पादन नहीं किया जा रहा है।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close