जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। स्वामी विवेकानंद वार्ड क्रमांक 21 में भी सफाई व्यवस्था बेपटरी हो गई है। अधिकांश क्षेत्रों के नालियों की नियमित सफाई नहीे हो रही है। नाली और सड़कों के किनारे कचरे के ढेर लगे हैं। जो 20 दिन बाद भी नहीं उठाया जा रहा है। यादव कालोनी के नागरिकों ने बताया कि सफाई कर्मचारी बिना पैसे लिए झाडू नहीं लगाते हैं। पास ही कचरे का ढेर था जिसे उठाने के एवज में ही 600 रुपये दिए। इसी तरह बारिश के सीजन को देखते हुए गंदगी से बजाबजा रही नालियों की सफाई कराने के लिए सफाई कर्मचारियों को जेब से एक हजार रुपये देने पड़े। नगर निगम के अधिकारी-कर्मचारी भी कालोनियों में सफाई के हालात देखने के लिए झांकते तक नही है। सफाई की जिम्मेदारी सुपरवाइजर पर छोड़ रखी है। वहीं जब तक वार्ड की पूर्व महिला पार्षद पद रहीं तब वे यहां नहीं आई। ऐसी ही बद्हाल सफाई व्यवस्था का नजारा संजय नगर, जानकी नगर, एसबीआइ कालोनी सिंगल स्टोरी सहित वार्ड के अधिकांश हिस्सों में देखने मिल रही है।

सड़कों के उड़े परखच्चे-

नगर सत्ता में रहीं पार्षद और नगर निगम के अधिकारियों की उदासीनता के चलते वार्ड के अधिकांश क्षेत्र की सड़कों के परखच्चे उड़ गए हैं। हर्षित नगर में सड़कों के धुर्रें उड़ रहे है तो विजय नगर, एकता नगर, जेडीए स्कीम के तहत आने वाले क्षेत्रों में सड़कों की मरम्मत न कराए जाने से सड़कों में गड्ढे हो गए हैं। बारिश में नागरिकाें को पानी भरे गड्ढे भरी सड़कों से ही आवागमन करना पड़ रहा है।

पर्याप्त पानी का संकट -

स्टेट बैंक कालोनी सिंगल स्टोरी के नागरिकों ने बताया कि क्षेत्रीय नागरिक पिछले कई वर्षों से पेजजल की समस्या से जूझ रहे हैं। क्षेत्र में एक इंच की पाइपलाइन बिछाई गई है जिसमें से पानी कम आता है और कुछ देर चल ही बंद हो जाता है। नगर निगम में कई बार चार इंच मोटी पाइपलाइन बिछाने की गुहार लगाई लेकिन आज तक मांग पूरी नहीं हुई। गर्मियों में पानी के लिए परेशान होना पड़ता है।

-----

और भी समस्याएं-

- यादव कालोनी में बाबूराव पराजंपे विवेकानंद पार्क है लेकिन इसमे भी ताला लटका हुआ है। गेट के सामने ही मलबा रखा गया है पार्क में घास-फूस उग आई है। लोग पार्क का उपयोग नहीं कर पा रहे हैं।

- जगह-जगह सीवर लाइन बिछाई गई है इसके लिए सड़क खोद दी गई लेकिन ठीक से बनाई नहीं गई। बारिश में सड़कों में कीचड़ हो जाता है।

-कई जगह की स्ट्रीट लाइट आधे घंटे जल कर बंद हो जाती है। यादव कालोनी में तो ये समस्या तीन महीने से बताई जा रही है।

- वार्ड में शामिल लमती ग्राम के कुछ क्षेत्रों में अब भी पहुंच मार्ग और बारिश में जलभराव की समस्या उत्पन्न हो रही है। नाले-नालियों का निर्माण भी नहीं कराया गया है।

---------

वार्ड की खासियत-

नगर निगम के जोन क्रमांक दो कछपुरा के अंतर्गत आने वाले स्वामी विवेकानंद वार्ड क्रमांक 21 की आबादी करीब 21 हजार है। लेकिन वोटर लिस्ट के हिसाब से 16 हजार 29 है। वार्ड में अनुसूचित जाति के 1130 वोटर निवासरत है, अनुसूचित जनजाति के भी 920 वोटर है। निकाय चुनाव में इस बार वार्ड अनारक्षित महिला के लिए आरक्षित हुआ है। वार्ड में एक भी सरकारी स्कूल नहीं है लेकिन आठ निजी स्कूल है। पांच आंगनबाडि़यां भी संचालित हो रही है। वार्ड धार्मिक महत्व का पंचमुखी मंदिर है। रानीताल तालाब का कुछ हिस्सा भी वार्ड में शामिल है।

क्या कहते है जिम्मेदार

पार्षद मद इतना नहीं होता कि सभी क्षेत्रों की सड़कें बनवाई जा सके। फिर भी अपने कार्यकाल में वार्ड में सड़कें, नालियां बनवाई। स्ट्रीट लाइट लगवाई गई है। साफ सफाई में जरूर कमी है जिसे दूर करने नगर निगम के अधिकारियों को भी कई बार कहा गया है।-सुषमा पटेल, पूर्व पार्षद, स्वामी विवेकानंद वार्ड

----

क्षेत्र में सफाई व्यवस्थाओं में सुधार लाने के लिए संभागीय व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा लगातार भ्रमण किया जा रहा है। जहां कमियां है उन्हें दूर किया जा रहा है। बिजली, पानी को लेकर भी विभाग प्रमुखों से चर्चा का समाधान निकाला जाएगा।-दिनेश प्रताप सिंह, जोन अधिकारी कछपुरा,नगर निगम

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close