जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। पंचायत चुनावों के पहले चरण की वोटिंग के दिन ही अनाधिकृत तौर पर परिणाम लोगों को पता चल जाएंगे। यद्यपि परिणामों की औपचारिक घोषणा दूसरे चरण की वोटिंग के बाद हो सकेगी। बावजूद इसके जिनको खुशी मनानी है, उनके लिए तो अनौपचारिक जानकारी ही पर्याप्त है। निर्वाचन आयोग के निर्देशों के अनुसार पंचायत चुनाव में मतदान के दिन ही पोलिंग-बूथ पर मतगणना का काम भी करा लिया जाएगा। मतदान तीन बजे तक होगा। हालांकि तीन बजे तक जितने मतदाता मतदान केंद्र के अंदर प्रवेश कर जाएंगे- उन सभी को मतदान करने दिया जाएगा।

मतदान प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद, संबंधित मतदान केंद्र पर किए गए मतदान और बचे मतपत्रों की गणना की जाएगी। मतपत्रों के मिलान के बाद मतदान केंद्र पर उपस्थित प्रत्याशियों के अधिकृत अभिकर्ताओं के समक्ष मतपेटियों को खाला जाएगा। इसके बाद पंच-सरपंच-जनपद सदस्य और जिला पंचायत सदस्यों के लिए पड़े मतों के बंडल तैयार किए जाएंगे। बंडल तैयार होने के साथ ही बंडलों की गणना कर मत-पत्राें को लिफाफे में बंद कर लिफाफा सील कर दिया जाएगा। इन लिफाफों सहित मतपेटी और शेष बचे मतों सहु पूरी चुनाव सामग्री को वापस माडल स्कूल आकर जमा कराना पड़ेगा। यहां वापस आई निर्वाचन सामग्री को रिसीव कर स्ट्रांग रूम पहुंचा दिया जाएगा।

बंडल बनते ही लग जाएगा अंदाजा

मतदान केंद्र पर प्रत्याशी वार पहले वोट छांटे जाएंगे। इसे बाद प्रत्याशी वार पचास-पचास मत-पत्र के बंडल बनाए जाएंगे। अंत में इन बंडों और फुटकर मतों की गणना कर सारी जानकारी को गणना-पत्रक में भरकर गणना-पत्रक को कर सील कर दिया जाएगा। सील किए गए लिफाफे पर सभी प्रत्याशियों के अभिकर्ताओं से हस्ताक्षर भी कराया जाएगा। इस दौरान मौके पर मौजूद अभिकर्ताओं को यह भी ज्ञात हो जाएगा कि किस प्रत्याशी की क्या स्थिति रही। इसी के साथ पंचायतों में जश्न का दौर भी शुरू हो जाएगा।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close