जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नगर निगम और स्मार्ट सिटी द्वारा करीब पौने सात करोड़ रुपये खर्च कर पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किए गए गुलौआ ताल की सुरक्षा व्यवस्था में चोरों ने सेंधमारी कर दी। सुरक्षा गार्डों की तैनाती के बावजूद अज्ञात लोग एंप्लीफायर चुरा ले गए। नतीजा यह हुआ कि गुलौआ ताल का म्यूजिकल फाउंटेन तो चालू हुए पर सुमधुर संगीत नहीं गूंजा। इतना ही नहीं सरकारी संपत्ति का नुकसान हो जाने के बाद भी नगर निगम ने एंप्लीफायर चोरी होने की थाने में एफआइआर तक दर्ज नहीं कराई। गुलौता ताल का रखरखाव करने वाले ठेकेदार ने नया एंप्लीफायर रखवा दिया और चोरी की घटना दबकर रह गई।

सुरक्षा के नाम पर तैनात हैं गार्ड, सामने है पुलिस चौकी -

पौन सात करोड़ रुपये खर्च कर वर्ष 2017 में गुलौआ ताल का सौंदर्यीकरण कराया गया था। तालाब की सुरक्षा के लिए नगर निगम ने चार से पांच गार्डों की तैनाती भी कर रखी है। जिन्हें हर माह अच्छा खासा मानदेय दिया जाता है। गुलौआ ताल के भीतर सामुदायिक भवन में एक परिवार भी रहता है तो तालाब की देखरेख करता है। वहीं मुख्य द्वार के पास ही पुलिस चौकी भी है। इतनी सुरक्षा व्यवस्था के बीच एंप्लीफायर चोरी हो जाना नगर निगम की सुरक्षा व्यवस्था को मुंह चिढ़ा रहा है।

बड़ी संख्या में आते हैं पर्यटक, लगता है टिकट

गुलौआ ताल को संवारे जाने के बाद सुबह और शाम यहां बड़ी संख्या में पर्यटन सैर सपाटा करने के लिए आते हैं। जिनसे नगर निगम टिकट की राशि भी वसूलता है। बावजूद इसके तालाब की सुरक्षा में सेंधमारी शुरू हो गई है।

ये काम हुए थे-

- म्यूजिकल फाउंटेन लगाया गया।

- रंगीन फुहारें लोगों को आकर्षित करती हैं।

- तालाब के चारों ओर पाथवे बनाया गया है।

- किनारे ग्रीनरी लगाई गई है।

- चारों ओर आकर्षक लाइटिंग की गई है।

- लेजर शो चालू किया गया था जो बंद हो गया है।

इनका कहना-

गुलौआताल का छोटा सा एंप्लीफायर चोरी हो गया था, जिसे ठेकेदार ने लगवा दिया है। चोरी किसने की इसकी पतासाजी की जा रही है। दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

-कमलेश श्रीवास्तव, कार्यपालन यंत्री, नगर निगम

Posted By: tarunendra chauhan

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close