जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जबलपुर रेलवे स्टेशन में बिक रहे खाद्य पदार्थो की गुणवत्ता को सुधारने के लिए रेलवे ने कार्रवाई के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की है। जबकि यात्रियों की खाद्य सामग्री को लेकर लगातार शिकायतें आ रही हैं। यह बात नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शन मंच के डा. पीजी नाजपांडे ने कही। उन्होंने बताया कि इसकी गंभीरता को देखते हुए तत्काल सेंट्रल लाइसेंसिंग एथारिटी को हस्ताक्षेप करना चाहिए, ताकि यात्रियों की जान और स्वास्थ्य से खिलवाड़ न हो सके। इस संबंध में उन्होंने एथारिटी को पत्र भी भेजा। उन्होंने बताया कि जबलपुर में ही नहीं बल्कि मंडल के सभी रेलवे स्टेशनों में ऐसा हो रहा है। यात्रियों को गुणवत्ता वाला खाना नहीं दिया जा रहा। ऐसा करने वालों पर रेलवे खानापूर्ति करने के लिए अर्थदंड लगा देती है। जबकि कई बार स्टॉल पर कई दिन पुरानी सामग्री बेची जा रही है। रेलवे के पास खुद का मेडिकल जांच टीम है। वह भी लापरवाही कर रहा है ।समय-समय पर स्टाल के देखने खाने की जांच नहीं करता। यात्रियों के स्वास्थ्य शरीर में पूरी तरह से खिलवाड़ कर रहा है जबलपुर रेल मंडल से मांगी गई जानकारी के बाद उन्होंने देने से भी मना कर दिया।

पेंशनर्स एसोसिएशन ने लगाया आरोप, बोले धारा 49 की आड़ में पिस रहे पेंशनर्स-

पेंशनर्स एसोसिएशन मध्यप्रदेश की जबलपुर शाखा के सदस्यों ने मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ सरकार पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि दोनों प्रदेश पेंशनर्स के साथ अन्याय कर रहा है, जो गलत है। धारा 49 की आड़ में पेंशनर्स पिस रहे हैं। अब तक पेंशनर्स को हजारों रुपये महंगा राहत और एरियर्स, बकाया है। केंद्र सरकार के कर्मचारियों के बराबर नहीं दिया जा रहा है। शाखा के अध्यक्ष नरेशा उपाध्याय, संभागीय अध्यक्ष व्हीपी शुक्ला ने बताया कि उन्होंने इस संबंध में आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत और भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को पत्र खिलकर इस समस्या से उन्हें अवगत कराया गया।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close