जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। बारिश में ओमती नाले का कहर देख चुके लोग इस वर्षा ऋतु में भी दहशत के साये में जी रहे हैं। संभावित जलप्लावन की कुशंकाओं से सबसे ज्यादा भय उडि़या मोहल्ले के उन रहवासियों को है, जिनके घर नाले के इर्द-गिर्द बने है। शहर के लोकमान्य बालगंगाधर तिलक वार्ड क्रमांक 23 के तहत आने वाला उड़ीया मोहल्ला पिछले कई वर्षों से वर्षा ऋतु में ओमती नाले की त्रासदी झेल रहा है। शायद ही ऐसी कोई बारिश हो जब उफान मारता हुआ नाला उनके घरों में न घुसा हो। नगर निगम ने करोड़ों रुपये खर्च कर नाला को पक्का कर कवर्ड तो करवा दिया लेकिन जिस एलएंडटी कंपनी को ओमती नाला सहित शहर के अन्य नालों को पक्का करने की जिम्मेदारी सौंपी थी उस कंपनी ने 80 फीट चौड़े नाले को 40 फीट में समेट दिया। इतना ही इसके बगल का हिस्सा यू ही छोड़ दिया। हाल ये है कि बारिश के दिनों में ओमती नाला कहर ढा रहा है। तीन वर्ष पहले इसी नाले में जहां एक बालक बह गया था वही गत वर्ष एक कार बह गई थी।

गंदगी से बजबजा नालियां, सड़क पर कचरे की ढेरियां-

वार्ड के अंतर्गत गुरंदी, घंटाघर, उडि़या मोहल्ला, भरतीपुर रोड सहित आस-पास के क्षेत्र में सफाई व्यवस्था चौपट है। नाले-नालियों की सफाई भी ढंग से नहीं की जा रही है। बाजार क्षेत्र में दुकानों में लगे डस्टबिन जहां गायब हो गए हैं वहीं सड़क किनारे कचरे के ढेरियां भी नजर आ रही हैं। बेसहारा मवेशी विचरण कर गंदगी फैला रहे हैं। वार्ड की पूर्व महिला पार्षद का तर्क है कि सफाई व्यवस्था में सुधार को लेकर निगम अधिकारियों शिकायतें करती है पर निगम के अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे।

-----

पार्किंग व्यवस्था भी चरमराई

वार्ड में ज्यादातर हिस्सा बाजार क्षेत्र हैं। व्यस्तम मार्गों में पर्किंग व्यवस्था न होने से आए दिन जाम के हालात बन रहे हैं। खासतौर से शाम होते ही तुलाराम चौक, गलगला, लकड़गंज, गुरंदी बाजार क्षेत्र सहित अन्य क्षेत्रों में यातायात व्यवस्था चरमरा जाती है। दो पहिया वाहन सहित चार पहिया वाहन भी सड़क पर ही खड़े कर दिए जा रहे हैं।

----

और भी समस्याएं-

- वार्ड में सूअरों का आंतक ज्यादा है जिससे क्षेत्रीय नागरिक व व्यापारी वर्ग को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। पूर्व पार्षद भी निगम में कई बार निगम से शिकायत कर चुकी पर समाधान नहीं हुआ।

- वार्ड में एक भी सामुदायिक भवन नहीं जहां गरीब परिवार के लोग वैवाहिक व अन्य कार्यक्रमों का आयोजन कर सके। लोग बीच सड़क पर ही कार्यक्रम व आयोजन करने विवश है।

- कई क्षेत्रों की स्ट्रीट लाइट बंद पड़ी है। बिजली पोल में तारों का मकड़जाल ऐसा है कि किसी दिन गंभीर हादसा हो सकता है। ट्रांसफार्मर से चिंगारियां भी निकलती है।

- कुछ क्षेत्राें में अब भी पर्याप्त पानी नहीं पहुंच रहा है। गर्मियों में लोग पानी के लिए परेशान रहे। पाइपलाइन नालियों से होकर गुजर रही है।

-------

वार्ड की खासियत

लोकमान्य बालगंगाधर तिलक वार्ड क्रमांक 23 नगर निगम के जोन क्रमांक 12 घंटाघर के अंतर्गत आता है। वार्ड की आबादी तकरीबन 18 हजार है। वोटर लिस्ट के हिसाब से 12 हजार 766 है। जिसमें अनुसूचित जाति वर्ग के 1157 और अनुसूचित जनजाति वर्ग के सिर्फ 46 मतदाता है। वार्ड में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की यादों को सहेजे टाउन हाल है। जहां बापू की प्रतिमा स्थापित है। पास ही ऐतिहासिक लाइब्रेरी है जिसका स्मार्ट सिटी द्वारा जीर्णोद्धार कराया गया है। जिला अस्पताल विक्टोरिया भी इसी वार्ड में हैं। अंग्रेजों के जमाने के भवनों की शानदार नक्कासी देखते ही बनती है। निकाय चुनाव के लिए वार्ड अनारक्षित महिला के लिए आरक्षित हुआ है।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close