जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। दौड़ पूरी होने के साथ एक युवक के जीवन की रफ्तार हमेशा के लिए थम गई। घटना भारत-तिब्बत सीमा पुलिस आइटीबीपी के जमतरा कैंप की है। युवक आइटीबीपी में आरक्षक बनने का सपना लेकर शारीरिक दक्षता परीक्षा में शामिल होने आया था। शनिवार सुबह उसने पांच किलोमीटर की दौड़ पूरी की। जिसके बाद उसकी सेहत खराब होने लगी। उसे एंबुलेंस से जिला अस्पताल विक्टोरिया पहुंचाया गया, जहां कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई। बरेला पुलिस ने मर्ग कायम कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। भीषण गर्मी में शारीरिक दक्षता परीक्षा आयोजित किए जाने पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं।

बरेला थाना प्रभारी जितेंद्र यादव ने बताया कि आइटीबीपी के जमतरा कैंप में 18 मई से आरक्षकों की भर्ती प्रक्रिया चल रही है। जिसमें देश के कई शहरों के आवेदक भाग ले रहे हैं। बालाघाट के आमगांव नवेगांव निवासी दिनेश 21 वर्ष पिता गोरेलाल ने भी आइटीबीपी में आरक्षक पद के लिए आवेदन किया था। शनिवार सुबह उसे दौड़ के लिए बुलाया गया था। पांच किलोमीटर की दौड़ पूरी करने के बाद दिनेश हांफने लगा और जमीन पर गिर पड़ा।

बढ़ गया था ब्लडप्रेशरः दिनेश के जमीन पर गिरते ही आइटीबीपी के अधिकारी अवाक रह गए। बिना देर किए एंबुलेंस बुलाई गई। एंबुलेंस मेें तैनात पैरामेडिकल अमले ने जानकारी दी कि दिनेश का ब्लडप्रेशर बढ़ चुका है, उसे अस्पताल में भर्ती कराना होगा। जिसके बाद उसे विक्टोरिया अस्पताल ले जाया गया। विक्टोरिया में उपचार के दौरान दिनेश ने दम तोड़ दिया।

4 से 8 बजे तक होती है दौड़ः थाना प्रभारी ने बताया कि आइटीबीपी में 26 मई तक शारीरिक दक्षता परीक्षा के लिए आवेदकों को सूचना भेजी गई है। रोजाना 350 आवेदकों को परीक्षा में शामिल होने के लिए सूचना भेजी जाती है। परंतु वर्तमान में इससे कम संख्या में आवेदक पहुंच रहे हैं। सुबह चार से आठ बजे तक दौड़ होती है, जिसके बाद शारीरिक दक्षता के अन्य मापदंडों के लिए प्रक्रिया पूर्ण की जाती है।

स्थगित करना पड़ी थी पुलिस आरक्षक परीक्षाः जिले में पुलिस आरक्षक चयन प्रक्रिया के लिए शारीरिक दक्षता परीक्षा काे भी पिछले दिनाें स्थगित करना पड़ा था। छठवीं बटालियन रांझी में दौड़ के दौरान बालाघाट व सिवनी के दो तथा बरेला जबलपुर का एक आवेदक बीमार हो गया था। बालाघाट व सिवनी के आवेदकों को अस्पताल ले जाया गया था जहां उनकी मौत हो गई थी।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close