जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि।

मंडल द्वारा संचालित की जा रही बेस्ट ऑफ फाइव योजना का लाभ इस बार जिले के छात्रों को नहीं मिल सकेगा। जिले के करीब 31 हजार छात्र इस योजना से वंचित हो गए हैं। माध्यमिक शिक्षा मंडल ने इस सूचना से विषयों के प्रति छात्रों की गिरती गंभीरता को देखते हुए बेस्ट ऑफ फाइव योजना को वर्ष 2020 में लागू करने से फिलहाल इन्कार कर दिया है ऐसी स्थिति में छात्रों को अब और कड़ी मेहनत करनी होगी।

जानकारों के अनुसार योजना के तहत छात्रों ने गणित और अंग्रेजी विषयों की कठिनता को देखते हुए दिलचस्पी लेनी कम कर दी थी। क्योंकि उन्हें पता था कि यदि 6 विषयों में यदि किन्हीं पांच विषयों में छात्र पास हो जाता है तो उसे पास मान लिया जाएगा। भले ही छात्रों के पास होने का प्रतिशत बढ़ा लेकिन छात्र विषयों की गहनता से दूर हो गए।

दो हजार से अधिक छात्र गणित में फेल:

माध्यमिक शिक्षा मंडल के परीक्षा परिणाम में जिले के करीब 6600 से अधिक छात्र-छात्राएं फेल हो गए थे। इसमें से सर्वाधिक करीब 2 हजार छात्र ऐसे थे जिन्हें अंग्रेजी विषय में सफल नहीं हो सके थे लेकिन बेस्ट ऑफ फाइव योजना के तहत फेल छात्र भी दसवीं पास हो गए। करीब एक हजार छात्र अंग्रेजी विषय में फेल हुए। प्रदेश में भी में 8 लाख 81 हजार से अधिक छात्रों में से करीब 4 लाख छात्र फेल हुए थे।

----------------

इस योजना के तहत छात्रों को एक विषय में फेल होने के बाद भी पास का लाभ मिल जाता था। सभी विषयों पर बेहतर पढ़ाई हो सके इसे देखते हुए इस बार इस योजना को क्रियान्वयन नहीं किया जाएगा। इस पर विचार मंथन किया जा रहा है।

-इब्राहिम नंद संभागीय अधिकारी माशिमं

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस