जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। बिरसिंहपुर के संजय गांधी ताप विद्युत गृह में शनिवार की दोपहर 500 मेगावाट इकाई में बिजली उत्पादन ठप हो गया। दोपहर करीब 12.31 मिनट पर इस यूनिट में खराबी आने के कारण बिजली उत्पादन बंद हुआ। संजय गांधी ताप विद्युत गृह की 1340 कुल क्षमता में फिलहाल कुल पांच में तीन इकाई में ही 463 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जा रहा है।

इस संबंध में मुख्य अभियंता संजय गांधी ताप विद्युत गृह व्हीके कैलासिया ने बताया कि बायलर ट्यूब लीकेज की वजह से इकाई को बंद किया गया है। इसके सुधार में कम से कम तीन दिन का वक्त लगेगा, तब तक इकाई बंद रहेगी।

ज्ञात हो कि मानसून की आमद के साथ ही प्रदेश में बिजली की मांग भी पहले की तुलना में कम हुई है। ऐसे में बिजली इकाईयों से उत्पादित बिजली को बैंकिंग के लिए अधिक इस्तेमाल किया जा रहा है। बिजली कंपनी रबी सीजन में आने वाली बिजली की मांग को पूरा करने के लिए अन्य प्रदेशों से बैकिंग का इकरार कर रहा है ताकि जब प्रदेश को बिजली की जरुरत होगी तो उस प्रदेश से तय करार के मुताबिक बिजली वापस ली जा सके। फिलहाल छत्तीसगढ़, पंजाब और उप्र को बिजली दी जा थी। बिजली कंपनी ने करीब 1500-1800 मेगावाट के बीच बिजली की बैंकिंग करने की योजना बनाई है।

बार-बार बायलर ट्यूब लीकेज

संजय गांधी ताप विद्युत गृह की इकाईयों के बार-बार ठप हो रही है। फरवरी 2022 में इस समस्या से तंग आकर ऊर्जा विभाग की तरफ से जांच दल भेजा गया था, जिसमें कई तरह की खामियों को चिन्हित किया गया था। इसी रिपोर्ट के आधार पर मुख्य अभियंता को ताप गृह से अलग किया गया था। अब फिर इस इकाई में वही समस्या आ गई है। साल 2021 से 2022 के बीच ताप गृह की 500 मेगावाट की इकाई को लेेकर सबसे ज्यादा खराबी सामने आई है। करीब आठ बार बायलर ट्यूब लीकेज की समस्या आ चुकी है। ऐसा तब हुआ जबकि इसके रखरखाव में बीते सालों की तुलना में सबसे ज्यादा राशि खर्च की गई। सिर्फ यहीं नहीं इसे करीब 68 दिन तक इसी वजह बिजली उत्पादन को बंद रखा गया। एक बार तो 500 मेगावाट की पांच नंबर यूनिट के टरबाइन में तेज कंपन तक होने लगा।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close