जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नगर निगम अध्यक्ष पद के चुनाव बुधवार को भारी गहमागहमी के बीच संपन्ना हो गए। भाजपा अपना अध्यक्ष बनवाने में कामयाब रही। नगर निगम के पं भवानी प्रसाद तिवारी सभाकक्ष में करीब तीन घंटे तक चली निर्वाचन प्रक्रिया के बाद जारी परिणाम में भाजपा के रिंकू विज को नगर निगम अध्यक्ष निर्वाचित किया गया। उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी अयोध्या तिवारी को 10 वोट से शिकस्त दी। रिंकू विज को 44 और अयोध्या तिवारी को 34 मत मिले। हालांकि, भाजपा को पहले से पूर्ण बहुमत था। रिंकू विज के उनके समर्थन में भाजपा के सभी 44 पार्षदों ने मतदान किया। जबकि बहुमत न होने के बाद भी कांग्रेस ने चुनाव लड़ा और युवा चेहरे पर दांव लगाया। कांग्रेस को इसका फायदा भी मिला, अयोध्या तिवारी को महापौर सहित कांग्रेस के 26 पार्षदों के वोट तो मिले ही साथ ही सभी सात निर्दलीय पार्षदों के वोट भी हासिल हो गए।

भाजपा की जबर्दस्त बाड़ाबंदी के बावजूद एक निर्दलीय पार्षद का वोट भाजपा की जगह कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में गया। अध्यक्ष पद के चुनाव में भाजपा ने अपने 44 पार्षदों के अलावा एक निर्दलीय सहित 45 पार्षदों का वोट पाने का दावा किया था। विदित हो कि नगर निगम अध्यक्ष पद का चुनाव जीतने के लिए 40 वोट चाहिए थे।

एआइएमआइएम के दो पार्षद नहीं हुए शामिल-

नगर निगम अध्यक्ष पद के चुनाव में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी आल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लमीन (एआइएमआइएम) के दो पार्षद शामिल नहीं हुए। चुनाव प्रक्रिया में महापौर जगत बहादुर अन्नू सहित 77 पार्षदों ने भाग लिया था। विदित हो कि शहर में 79 वार्ड से 26 कांग्रेस, 44 भाजपा और सात निर्दलीय और दो (एआइएमआइएम) के पार्षद निर्वाचित हुए थे।

तीन घंटे में आ गया परिणाम-

नगर निगम अध्यक्ष पद के निर्वाचन की प्रक्रिया नगर निगम सभाकक्ष में सुबह 10.30 बजे से आरंभ की गई। 11 बजे तक नाम निर्देशन पत्र जमा हुए। कांग्रेस से अयोध्या तिवारी और भाजपा से केवल रिंकू विज का नाम निर्देशन पत्र भरा गया। निर्देशन पत्रों की संवीक्षा 11 से 11.15 बजे तक हुई। चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों की अंतिम सूची का प्रकाशन 11.30 से 11.45 बजे तक किया गया। दोपहर 12 बजे से मतदान कराया गया। करीब एक घंटे की प्रक्रिया के बाद 1:20 बजे परिणामों की घोषणा कर दी गई। निर्वाचन प्रक्रिया जिला निर्वाचन अधिकारी व कलेक्टर डा इलैया राजा टी ने संपन्ना कराई। इस अवसर पर उप जिला निर्वाचन अधिकारी नम:शिवाय अरजरिया, एसडीएम पीके सेन गुप्ता भी उपस्थित रहे। जैसे ही परिणाम घोषित हुए भाजपा पदाधिकारी ने रिंकू विज को फूल माला से लाद दिया।

-------

बाड़ाबंदी के बाद भी भाजपा के हाथ से एक वोट फिसला-

नगर निगम अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए भाजपा द्वारा की गई जबर्दस्त बाड़ाबंदी के बावजूद भाजपा के पक्ष से एक वोट फिसल गया। भाजपा समर्थित एक निर्दलीय पार्षद ने कांग्रेस के पक्ष में वोट किया। जबकि आठ अगस्त को नगर निगम परिसर में भाजपा के सभी 44 नव निर्वाचित पार्षदों सहित उक्त निर्दलीय पार्षद को भी भाजपा ने एसी बसों में बैठाकर बिलहरी स्थित होटल भिजवा दिया था। दो दिन तक सभी 45 पार्षदों को होटल में ही रखा गया। उनके मोबाइल तक बंद करवा दिए गए थे।

-----

होटल से दो बसों में नगर निगम पहुंचे भाजपा पार्षद

नगर निगम के सभाकक्ष में भाजपा प्रत्याशी रिंकू विज, लवलीन आनंद और कमलेश अग्रवाल पहले से मौजूद रहे। निर्वाचन प्रक्रिया शुरू होने के करीब एक घंटे बाद 11:31 बजे एक निर्दलीय सहित भाजपा के सभी 44 पार्षदों को दो बसों से नगर निगम लाया गया था। नगर अध्यक्ष जीएस ठाकुर भी साथ रहे। वंदेमातरम के उद्घोष के साथ सभी को नगर निगम सभाकक्ष में पहुंचा दिया गया। चुनाव प्रक्रिया के दौरान सांसद राकेश सिंह, कैंट विधानसभा क्षेत्र के अध्यक्ष अशोक रोहाणी भी उपस्थित रहे। पूर्व महापौर प्रभात साहू, सदानंद गोडबोले, भाजपा नेता विनोद गोंटिया, अभिलाष पांडेय सहित भाजपा के कई दिग्गज भी नगर निगम परिसर में मौजूद रहे। इस दौरान अशोक रोहाणी से जब पार्षदों की बाड़ाबंदी पर सवाल किया गया तो उनका कहना था कि ये बाड़ाबंदी क्या होती है। हम नहीं जानते। भाजपा पार्षदों के लिए होटल में प्रशिक्षण आयोजित किया गया था, जिससे कि शहर विकास में वे बेहतर कार्य कर सकें।

कांग्रेस की रणनीति सफल रही

नगर निगम अध्यक्ष पद के चुनाव में कांग्रेस की रणनीति भी सफल रही। अपने 26 पार्षदों को जहां डिगने नहीं दिया, वहीं सात निर्दलीय पार्षदों को भी अपने खेमे में शामिल कर लिया। भाजपा दावा करती रही कि चार पार्षद और उनके संपर्क में हैं, कांग्रेस की जबर्दस्त मोर्चाबंदी और रणनीति के आगे भाजपा के दावे ढेर हो गए। चुनाव प्रक्रिया के शुरू से समाप्त होने तक महापौर जगत बहादुर सिंह अन्नाू उनके साथ ही रहे। नगर निगम सभाकक्ष भी वे सभी पार्षदों को साथ लेकर दाखिल हुए। इस दौरान उत्तर विधानसभा क्षेत्र के विधायक विनय सक्सेना, कांग्रेस पूर्व नगर अध्यक्ष दिनेश यादव, मुकेश राठौर सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।

---

ऐसा है मतों का गणित

पार्षद

- 44 भाजपा

- 26 कांग्रेस

- 7 निर्दलीय

- 2 एआइएमआइएम

- 79 कुल पार्षद

-------

मतदान- 77 वोट पड़े

- 44 वोट रिंकू विज को मिले सभी भाजपा पार्षदों के

- 34 वोट अयोध्या तिवारी को एक वोट महापौर का भी मिला

- 7 निर्दलीय पार्षदों के वोट भी कांग्रेस के पक्ष में

- 2 एआइएमआइएम के पार्षद रहे अनुपस्थित

----------

रिंकू पूर्व में संभाल चुके अध्यक्ष पद का दायित्व

नगर निगम के नव निर्वाचित अध्यक्ष रिंकू विज दो बार पार्षद रह चुके है। ये उनकी तीसरी बारी है। इसके पहले वे कुछ समय के लिए नगर निगम अध्यक्ष पद का निर्वहन भी कर चुके हैं। खास बात ये है कि वे कैंट क्षेत्र के विधायक अशोक रोहाणी के बेहद करीबी हैं और नगर निगम चुनाव में भारी मतों से निर्वाचित हुए हैं।

-----

जनता ने मुझे यहां तक पहुंचाया है, उनके भरोसे पर खरा उतरने का प्रयास करुंगा। सभी पार्षदों में सामंजस्य बैठाकर शहर का विकास करेंगे। शहर को महानगर बनाएंगे। ये कार्य चुनौतीपूर्ण तो है पर नामुमकिन नहीं है। -रिंकू विज, अध्यक्ष नगर निगम

लोकतांत्रिक व्यवस्था में चुनाव में हार-जीत तो होती ही है। परिणाम स्वीकार्य है। पार्षद के रूप में वार्ड और शहर के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। -अयोध्या तिवारी, पार्षद एवं कांग्रेस प्रत्याशी

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close