जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। यात्रियों को लेकर जबलपुर से मंडला जा रही कांकेर ट्रेवल्स की बस दुर्घटना का शिकार हो गई। बीजाडांडी के आगे मंडला रोड पर तेज रफ्तार बस की ट्रक से टक्कर हो गई। ट्रक से टकराते ही तेज धमाके जैसी आवाज आई। इसके बाद यात्री चीखने पुकारने लगे। स्लीपर कोच बस में 52 से ज्यादा लोग सवार थे। कई यात्रियों को चोटें आईं। वे काफी देर तक उपचार के लिए तड़पते रहे। चार घायलों को देर रात जबलपुर स्थित निजी अस्पताल लाया गया। जहां निर्भय नगर अधारताल निवासी छोटू साहू 28 वर्ष को मृत घोषित कर दिया गया। बताया गया छोटू इकलौता बेटा था। अन्य घायलों को भर्ती कर इलाज किया जा रहा है। यह बस जबलपुर के आईएसबीटी से रात 11 बजे रवाना हुई थी।

लिफ्ट लेकर बीजाडांडी पहुँचे, तब मिला मोबाइल टावर-

अधारताल निवासी गौकरण साहू दुर्ग जाने के लिए जबलपुर से रवाना हुए थे। दुर्घटनाग्रस्त बस में वे नीचे की सीट पर थे। हादसे में बाल-बाल बचे गौकरण ने बताया कि दुर्घटनास्थल पर मोबाइल टावर नहीं मिल रहा था। जिसकी वजह से पुलिस और एम्बुलेंस को समय से सूचना नहीं दी जा सकी। कार में लिफ्ट लेकर वह बीजाडांडी पहुँचा। मोबाइल का नेटवर्क मिला जिसके बाद पुलिस और 108 एम्बुलेंस को घटना की सूचना दी।

यह भी पढ़ें ः Jabalpur Corona Update : सौ साल के वृद्ध की कोरोना संक्रमण से मौत

बेटे के शव के बगल लेटी रही मां को उम्मीद जीवित है बेटा-

हादसे में जान गंवाने वाले छोटू का शव लेकर मां अनुसुईया साहू घटनास्थल से जबलपुर पहुँची। हादसे में उन्हें भी काफी चोटे आईं हैं। बताया गया कि अनुसुईया को नहीं पता कि बेटे छोटू की मौत हो चुकी है। एक ही वाहन में दोनों को लाया गया। परंतु छोटू की मौत हो चुकी थी। अस्पताल प्रबंधन ने भी अनुसुईया को छोटू की मौत की सूचना नहीं दी।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close