जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Chaitra Navratri 2021। चैत्र नवरात्र की प्रतिपदा मंगलवार से जगतजननी की आराधना का महापर्व शुरू हो गया। कोरोना के कारण कई मंदिरों में भक्‍तों के प्रवेश के लिए प्रतिबंध रहा। हालांकि पट खुले रहने से भक्‍तों ने दूर से मां अंबे के दर्शन किए। ज्‍यादातर मंदिर प्रबंधकों ने पहले ही सूचना लगा दी थी कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए घर पर ही आराधना करें।

प्राचीन मंदिरों में भरता था मेला : शहर के प्राचीन मंदिरों में नवरात्र पर्व पर नौ दिनों तक मेला भरता था। कोरोना के कारण पिछले वर्ष की तरह इस बार भी मेला नहीं भरेगा। भानतलैया स्थित बड़ी खेरमाई मंदिर, तेवर स्थित त्रिपुर सुंदरी मंदिर, बरेला स्थित शारदा मंदिर में पर्व के दौरान मेला भरता था जहां लोग पूजन सामग्री के अलावा बच्‍चों के खिलौने लेते थे। मंदिरों में जहां लोग परिवार के साथ पूजन-अर्चन करने पहुंचते थे वे भी इस बार नहीं पहुंच पाएंगे। ज्‍यादातर लोगों ने सुरक्षा को देखते हुए घर पर ही आराधना का निर्णय लिया है।

आनलाइन दर्शन : चैत्र नवरात्र पर नागरिकों व श्रद्धालुओं के लिए जिले के प्रमुख दुर्गा मंदिर के आनलाइन दर्शन की व्यवस्था की गई है। कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने आग्रह किया है कि अपने घर पर ही सुरक्षित रहकर प्रमुख दुर्गा मंदिरों के आनलाइन दर्शन करें। आनलाइन दर्शन जिला प्रशासन जबलपुर की वेबसाइट के मुख्य पृष्ठ में दिए हुए लिंक पर क्लिक कर किए जा सकते हैं। वर्तमान में आनलाइन दर्शन की व्यवस्था में तेवर स्थित त्रिपुर सुंदरी माता मंदिर, सदर स्थित काली माता मंदिर, बड़ी खेरमाई माता मंदिर भानतलैया, हनुमानताल एवं बंगाली क्लब परिसर स्थित काली माता मंदिर को जोड़ा गया है।

Posted By: Ravindra Suhane

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags