जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि।

कलेक्टर कार्यालय परिसर स्थित पंजीयन कार्यालय में अफसरों को बिना बताए गैर हाजिर रहना महंगा पड़ गया। जब कलेक्टर कर्मवीर शर्मा बिना बताए कार्यालय का निरीक्षण करने जा पहुंचे। उन्होंने सभी उप पंजीयक के कैबिन में झांका तो दो उप पंजीयक की सीट खाली नजर आई। पूछताछ में कलेक्टर को बताया गया कि उन दोनों के कहीं जाने की जिला पंजीयक को कोई जानकारी नहीं है। मौके पर ही कलेक्टर ने दोनों उप पंजीयक और उनके साथ जिला पंजीयक को भी शोकॉज नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। वहीं उप पंजीयकों का एक-एक दिन का वेतन काटा जाएगा।

नहीं बता सके कहां गए अधिकारी:

कलेक्टर ने दोपहर में कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान बिना अनुमति के कार्यालय से अनुपस्थित रहने पर दो उप पंजीयक चित्रा राय एवं मनोज बोरकर को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने नोटिस का संतोष जनक जबाब न मिलने पर दोनों अधिकारियों का एक दिन का वेतन काटने के निर्देश भी निरीक्षण के दौरान दिए हैं।

जिला पंजीयक है लापरवाह:

दोनों उप पंजीयकों की अनुपस्थिति के लिए कलेक्टर ने वरिष्ठ जिला पंजीयक निधि जैन की लापरवाही माना है। अधीनस्थों पर नियंत्रण नहीं रख पाने के लिए उन्हें भी कारण बताओ नोटिस जारी किया गया। तीन दिन के भीतर नोटिस का संतोषजनक जवाब न मिलने पर एकपक्षीय कार्रवाई की चेतावनी भी वरिष्ठ जिला पंजीयक को दी है।

रोक का आदेश नहीं माना:

उल्लेखनीय है कि कोविड संक्रमणकाल के चलते कलेक्टर ने आदेश जारी किए थे। जिसमें सभी विभागों के अधिकारी-कर्मचारियों को जिले से बाहर जाने पर रोक लगा दी गई। बावजूद इसके जिला पंजीयक व उप पंजीयकों ने इस आदेश का पालन नहीं किया। कलेक्टर ने मौके पर जमकर फटकार भी लगाई। क्योंकि कई दिनों से उन्हें जो शिकायत मिल रही थी, वो निरीक्षण में सच साबित हुई।

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस