जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। एक दिसंबर को स्कूल खुलने का फरमान विभाग से जारी हुआ लेकिन इसको लेकर आखिरी वक्त पर कोई दिशा-निर्देश नहीं जारी हुए। इस वजह से स्कूलों में असमजंस की स्थिति बनी रही। इधर जिला शिक्षा अधिकारी ने साफ किया है कि कक्षा 9वीं से 12वीं तक पूर्व की तरह ही सहमति से विद्यार्थी स्कूल आ सकते हैं उन पर किसी तरह का कोई दवाब नहीं है।

ज्ञात हो कि स्कूल शिक्षा विभाग ने पूर्व में तय किया था कि एक दिसंबर से नियमित तरीके से कक्षा 9वीं से 12वीं तक स्कूल खुलने के निर्णय लिया था। इस संबंध में प्राचार्यो को भी आनलाइन चर्चा में निर्देश दिए गए है कि वे तैयारी कर ले। इस बीच कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ने लगा जिस वजह से विभाग से स्कूल खोलने को लेकर कोई नया निर्देश नहीं हुआ। बताया जाता है कि एक दिसंबर से स्कूल खोलने के लिए किसी तरह के नए निर्देश हायर सेकेंडरी और हाई स्कूल में नहीं पहुंचे जिस वजह से शिक्षक मान रहे है कि पुराने तरीके से स्कूल खुलेंगे।

स्वेच्छा से आ सकते हैं स्कूल: जिला शिक्षा अधिकारी सुनील कुमार नेमा ने कहा कि विद्यार्थी स्वेच्छा से स्कूल आ सकते हैं। उन पर किसी तरह का कोई दवाब नहीं होगा। दरअसल ये व्यवस्था उन विद्यार्थियों के लिए होगी जो ग्रामीण इलाकों में रहते हैं और आनलाइन पढ़ाई का लाभ नहीं ले पा रहे हैं। कक्षा 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिए आनलाइन कक्षा लगाई जा रही है। शिक्षकों को नियमित रूप से स्कूल बुलाया जा रहा है जहां वे आनलाइन कक्षाएं ले रहे हैं। ग्रामीण इलाकों में इंटरनेट की समस्या के कारण कई विद्यार्थी आनलाइन कक्षा में शामिल नहीं हो पा रहे हैं।

Posted By: Ravindra Suhane

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस