जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। बिना मास्क के सवारी बैठाना बस ऑपरेटरों काे महंगा पड़ गया। आरटीओ के उड़नदस्ते ने अंतर राज्यीय बस टर्मिनस (आइएसबीटी),पाटन बाइपास और स्लीमनाबाद रोड पर बसों की जांच की और यात्री सहित चालक, परिचालक द्वारा मास्क न लगाने पर नौ बसों के खिलाफ चालानी कार्रवाई कर करीब साढ़े सात हजार रुपये का जुर्माना लगाया।

सुबह से चला जांच अभियान: आरटीओ संतोष पाल के निर्देश पर संभागीय उड़नदस्ता प्रभारी आरबी सिंह की अगुवाई में आरटीओ के दस्ते ने सबसे पहले आइएसबीटी से निकलने वाली बसों की जांच की। यहां आधा दर्जन बसों की जांच की गई। दो बसों में कोविड-19 के तहत जारी गाइडलाइन का पालन न करने पर बस ऑपरेटर के खिलाफ चालानी कार्रवाई कर जुर्माना वसूला गया। इसी तरह पाटन बाइपास के बसों की जांच के दौरान बसों में शारीरिक दूरियों का पालन न करने, सैनिटाइजेशन न होने और मास्क न लगाने पर छह बसों के खिलाफ चालानी कार्रवाई की गई।

इसके बाद आरटीओ के दस्ते ने स्लीमनाबाद रोड पर अभियान चलाया और एक बस पर कार्रवाई की। आरटीओ संतोष पाल ने बताया कि जांच अभियान के दौरान कोविड नियमों का उल्लंघन करने पर नौ बसों के चालान काटे गए और करीब साढ़े सात हजार रुपये का जुर्माना वसूला गया। विदित हो कि बसों में मास्क की अनदेखी को लेकर नईदुनिया ने 26 जुलाई के अंक में खबर प्रकाशित की थी। जिस पर संज्ञान लेते हुए आरटीओ ने कार्रवाई की।

जारी रहेगी कार्रवाई: आरटीओ ने बस ऑपरेटर, चालक, परिचालक और यात्रियों से आग्रह किया है कि कोरोना संक्रमण अभी खत्म नहीं हुआ है। इसलिए अभी सर्तकता बरतनी जरुरी है। त्योहार के दौरान भी बस चालक, परिचालक खुद आगे आगे कर एक जागरुक नागरिक की तरह मास्क धारण करें और यात्रियों को भी मास्क पहनने के लिए प्रेरित करें। आरटीओ ने ये चेतावनी भी दी कि आगे भी इसी तरह की कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local