जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। विशेष प्रशिक्षण के लिए विदेश से भारत पहुंचे सेना के जवानों को जिले के सैन्य अस्पताल में कोरोना से बचाव के लिए टीका लगाया गया। कोविड-19 टीकाकरण से लाभांवित जवान श्रीलंका, नाईजीरिया व जाम्बिया के हैं, जो कुछ समय से सेना की छावनी में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। वैक्सीन लगने के बाद विदेशी नागरिकों ने भारत सरकार व सेना के अधिकारियों के प्रति आभार जताया।

सेना के अधिकारियों ने बताया कि सरकार के निर्धारित पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीयन करने के बाद तय मापदंडों का पालन करते हुए विदेश से आए जवानों को टीका लगाया जा रहा है। सेना के जवानों को कोरोना महामारी के खतरे से बचाने के लिए मिलिट्री अस्पताल में टीकाकरण केंद्र बनाया गया है। रोजाना 18 सौ से दो हजार जवानों का टीकाकरण किया जा रहा है, ताकि उन्हें कोरोना के खतरे से बचाया जा सके। मिलिट्री अस्पताल में पदस्थ कमांडेंट यशपाल सिंह ने बताया कि टीकाकरण सत्र सुबह सात बजे प्रारंभ कर दिया जाता है। शाम सात से रात्रि आठ बजे तक फौज के जवानों को टीके लगाए जा रहे हैं। अधिकारियों का प्रयास है कि एक भी फौजी टीकाकरण से वंचित न रहने पाए। सेना भर्ती रैली में सफल होने के बाद प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे रिक्रूट को भी वैक्सीन लगाई जा रही है।

वैक्सीन लगवाने जवान उत्साहित: सेना के अस्पताल में सुबह से रात तक जवानों की भीड़ लगी रहती है। कोरोना का टीका लगवाने के लिए वे उत्साहित हैं। जवानों का कहना है कि देश की रक्षा के लिए स्वस्थ रहना जरूरी है। वैक्सीन लगवाकर वे कोरोना संक्रमण से बचना चाहते हैं ताकि देश भक्ति व सुरक्षा के किसी भी अवसर से वंचित न होने पाएं। जवानों ने बताया कि सैन्य क्षेत्र में भी कोरोना महामारी ने दस्तक दे दी थी। तमाम जवान वायरस से संक्रमित हुए और तभी से वैक्सीन का इंतजार किया जा रहा था। उन्हें गर्व है कि स्वदेशी वैक्सीन से कोरोना पर विजय पाने की तैयारी की जा रही है।

Posted By: Ravindra Suhane

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags