जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नगर निगम के अतिक्रमण शाखा से हटाए गए कर्मचारी की गत रात हार्ट अटैक से मौत हो जाने से अक्रोशित नगर के कर्मचारियों ने गुरुवार को कार्यालय खुलते ही हड़ताल कर दी। कर्मचारी नेताओं का आरोप है है कि कर्मचारी मुकेश पारस को प्रताड़ित किया जा रहा था। नगर निगम में गत दिनों चोरी के मामले में मुकेश पारस को नगर निगम अतिक्रमण शाखा से हटाया दिया गया था। बाद में उन्हें उनके मूल पद सफाई कर्मचारी के रूप में नाला गैंग में पदस्थ कर दिया गया था। इसके बाद द्वारा सेवा समाप्ति का नोटिस जारी किया था। आरोप है कि नोटिस मिलने के बाद मुकेश पारस को हार्ट अटैक आया जिससे उसकी मौत हो गई।

कर्मचारी नेता राम दुबे कहा की निगमायुक्त आशीष वशिष्ठ कर्मियों को प्रताड़ित करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं, इसी प्रताड़ना को मुकेश सहन नहीं कर पाए और हार्ट अटैक आने से उनकी मौत हो गई। कर्मचारी संगठनों का कहना है कि काम के अनावश्यक दबाव के चलते कई अन्य कर्मचारी भी तनाव में हैं और बीमारियों का शिकार हो रहे हैं। मुकेश का शव नगर निगम में रखकर विरोध प्रदर्शन की तैयारी भी चल रही है। कर्मचारियों के आक्रोश को देखते हुए निगम मुख्यालय में पुलिस बल भी तैनात किया गया है।

जांच के कारण था तनाव-

बताया जा रहा है कि मुकेश पारस मूलत सफाई संरक्षक थे लेकिन पिछले कुछ सालों से अतिक्रमण दस्ता में सेवाएं दे रहे थे। पिछले दिनों नगर निगम के अतिक्रमण शाखा में हुई चोरी के मामले में उनके खिलाफ एक जांच बैठी और फिर उन्हें मूल पद सफाई संरक्षक पर भेजने की कवायद भी शुरू कर दी गई। जिससे वे तनाव में थे, संभवत इसी तनाव को सहन न कर पाने के कारण बीती रात ह्दय गति रुकी और कुछ मिनटों में ही मौत हो गई।

Posted By: Rajnish Bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close