जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। पैगंबरे इस्लाम हजरत मुहम्मद (सल्ल.) के नवासे हजरत इमाम हुसैन आली मुकाम की शहादत के पर्व मुहर्रम का मंगलवार की शाम रानीताल कर्बला में सवारी ताजिया ठंडे करने के साथ समापन हो गया। दोपहर जुहर की नमाज के बाद नगर के विभिन्न् अंचलों से सवारी ताजियों के जुलूस निकलना शुरू हुए। जुलूस मंे लगभग 300 सवारियां तथा 50 ताजिये शामिल थे। बड़ी तादाद मंे वाहनों पर इमाम आली मुकाम का लंगर तकसीम किया गया। जुलूस बहोराबाग, चार खंबा, कोतवाली, कमानिया, बल्देवबाग, आगा चौक होते हुए रानीताल कर्बला पहुंचा। जुलूस पथ के दोनों और खड़े हजारों जायरीन ने ताजियों की ज्यारत की तथा सवारियों को भावभीनी विदाई दी।

बुर्राक ताजिया रहा आकर्षण का केंद्र -

मुहर्रम के जुलूस में भव्य एवं कलात्मक ताजिये शामिल थे। बुर्राक वाला ताजिया जनाकर्षण का केंद्र था। कांधों पर ताजिया रखे हुए अकीदतमंद या हुसैन के नारे लगाते चल रहे थे। जायरीन अपने बच्चों को ताजियों के नीचे से निकाल रहे थे। ताकि उन पर इमाम आली मुकाम की मेहरबानी बनी रहे। मखानों से निर्मित कई सवारियां विशालकार थी। जुलूस में शामिल अकीदतमंद या अली के नारे बुलंद कर रहे थे।

वाहनों पर लंगर-

जुलूस मे बड़ी तादाद में वाहनों पर हजरत इमाम आली मुकाम का लंगर तकसीम किया जा रहा था। मुफ्ती ए आजम मध्य प्रदेश हजरत मौलाना मोहम्मद हामिद अहमद सिद्दीकी व नायबे मुफ्ती ए आजम हजरत मौलाना मुशाहिद रजा कादरी ने मुहर्रम के जुलूस मंे शिरकत की तथा लंगर तकसीम किया। लंगर बांटने वाले वाहनों पर शहीदी कलाम गूंज रहे थे। आगा चौक से सवारी ताजिये कर्बला की ओर तथा लंगर बांटने वाले वाहन ईदगाह रानीताल मार्ग पर आगे बढ़ जाते थे। इसी तरह सदर और गढ़ा में भी ताजिया और सवारी निकाली गई।

शिया समुदाय का मातमी जुलूस निकला-

शिया समुदाय के तत्वावधान में जामा मस्जिद फूटाताल में आमाले आशूरा अदा करने के बाद शिया इमामबाड़ा गलगला से मातमी जुलूस निकला। जुलूस में सबसे आगे अलम एवं ताजिया थे। सिटी कोतवाली के सामने शिया नवयुवकों ने दर्दनाक मातम किया, लोहे की जंजीरों से मातम करने वालों की छाती व पीठ लहू लुहान हो गई। सड;क के दोनों और खड़े जायरीन ने दर्दनाक मातम का अनोखा नजारा देखा। फुहारा, बल्देवबाग, आगा चौक होते हुए मातमी जुलूस का रानीताल कर्बला में समापन हुआ।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close