जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मणप्पुरम गोल्ड लोन फाइनेंस कंपनी कटनी में डकैती डालने वाले गिरोह के सदस्य जबलपुर के बघराजी क्षेत्र में किराए के मकान में निवास कर रहे थे। करीब डेढ़ माह से किराए के मकान में रहकर उन्होंने जबलपुर, कटनी, सतना व रीवा जिलों में रेकी कर डकैती की साजिश रची। 12 ठिकानों की रेकी करने के बाद मणप्पुरम गोल्ड कटनी को निशाना बनाया। कटनी में वारदात को अंजाम देने के बाद गिरोह के दो सदस्य सतना की तरफ भागे। शेष चार जबलपुर पहुंचे और बघराजी चले गए। बघराजी पुलिस चौकी के पीछे स्थित किराए के मकान में कपड़े बदलने के बाद चारों दो अलग-अलग मोटसाइकिलों पर सवार होकर निवास की तरफ भागे थे। एडीजी आइजी उमेश जोगा ने बताया कि उन्होंने जो जाल बिछाया था उसके तहत मंडला पुलिस ने इनमें से दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया, जबकि दो अन्य भागने में कामयाब रहे। निवास से भागे आरोपितों ने अंधेरे का फायदा उठाकर कुंडम से करीब एक किलोमीटर दूर अपनी बाइक को लावारिस छोड़ दिया और बस पर सवार हो गए। निवास से बचकर भागे आरोपितों के पास लूटा हुआ सोना व नकदी होने का पता चला है। पुलिस की कई टीमें फरार चारों आरोपितों की तलाश में जुटी हैं। पुलिस टीमों को बिहार भी भेजा गया है।

तीन घंटे के भीतर गैंग का पर्दाफाश-

एडीजी जोगा ने बताया कि वारदात के बाद तीन घंटे के भीतर पुलिस ने गैंग का पर्दाफाश कर दिया। गैंग का पता चलते ही बिहार के एडीजी एसटीएफ से चर्चा की। पता चला कि सुबोध सिंह बिहार की बेउर जेल में बंद है, जबकि गैंग के कुछ अन्य सदस्य बाहर हैं। सोना-चांदी व नकदी लूटने के 50 से ज्यादा मामले सुबोध समेत गिरोह के सदस्यों पर दर्ज हैं। गिरोह अब तक 300 किलो से ज्यादा सोना लूट चुका है। 29 अगस्त को इसी गिरोह ने उदयपुर राजस्थान में 24 किलो सोना व 12 लाख रुपये लूटे थे। देश के कई शहरों में यह गिरोह लूट व डकैती की वारदातों को अंजाम दे चुका है।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close