जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। घमापुर क्षेत्र निवासी एक युवक की डेंगू से मौत हो गई। युवक को मंगलवार देर रात एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल पहुंचते ही उसे कृत्रिम जीवन रक्षक प्रणाली वेंटीलेटर पर रखा गया। कुछ देर तक चले उपचार के दौरान युवक की सांसें टूट गईं। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार घमापुर निवासी नरेंद्र सिंह पटेल 39 वर्ष कुछ दिनों से बीमार थे। जिनका उपचार घंटाघर के समीप स्थित डॉ. रजा के अस्पताल के चिकित्सकों की देखरेख में चल रहा था। इस दौरान नरेंद्र की हालत बिगड़ने लगी। हालत गंभीर हो जाने पर स्वजन उन्हें एक अन्य निजी अस्पताल ले गए। जहां पहुंचते ही उन्हें वेंटीलेटर पर रखना पड़ा। युवक एक होटल में मैनेजर था। इधर, बुधवार को शहर में डेंगू के 15 नए मरीज सामने आए। जिसके बाद डेंगू मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 433 हो गई।

घटकर 18 हजार हो गया था प्लेटलेट्स काउंट : डेंगू के उपचार के दौरान नरेंद्र के रक्त में प्लेटलेट्स की संख्या घटकर करीब 18 हजार रह गई थी। जिसके बाद उसकी हालत अचानक बिगड़ने लगी। घंटाघर के समीप स्थित निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने प्लेटलेट्स चढ़ाने की सलाह दी थी। परंतु इसी बीच वह गंभीर हालत में पहुंच गया। बताया जाता है कि बुखार से पीडि़त नरेंद्र कई दिन तक घर पर रहकर चिकित्सक की सलाह पर दवाओं का सेवन करता रहा। बुखार के शुरुआती दौर में रक्त में प्लेटलेट्स की संख्या हजारों में थी।

चार दिन के भीतर दूसरी मौत : डेंगू जानलेवा होता जा रहा है। चार दिन के भीतर दूसरी मौत सामने आई। इससे पूर्व 12 सितंबर को पुलिस आरक्षक ऊषा तिवारी की आशीष हास्पिटल में उपचार के दौरान डेंगू से मौत हो गई थी। इधर, बुधवार को शहर स्थित मेट्रो हास्पिटल में डेंगू से पीडि़त तीन पुलिस जवानों को भर्ती कराया गया।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local