जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मप्र हाई कोर्ट में उस जनहित याचिका पर सुनवाई पूरी हो गई, जिसमे मप्र की राजधानी भोपाल के हबीबगंज स्टेशन का नाम बदलकर रानी कमलापति स्टेशन रखने को चुनौती दी गई। प्रशासनिक न्यायाधीश शील नागू व न्यायमूर्ति सुनीता यादव की युगलपीठ ने जनहित याचिका पर अपना आदेश सुरक्षित कर बाद में सुनाने की व्यवस्था दी।

सिवनी जिले के कुरई निवासी वकील अहमद सईद कुरैशी की ओर से जनहित याचिका दायर की गई। कहा गया कि 1973 में एक मुस्लिम गुरु हबीब मियां ने स्टेशन के लिए रेलवे को जमीन दान दी। तब से इसे हबीबगंज स्टेशन के नाम से जाना जाने लगा। लेकिन 12 नवम्बर, 2021 को केंद्र व राज्य सरकार की सहमति से रेलवे बोर्ड ने इस स्टेशन का नाम बदलकर रानी कमलापति स्टेशन कर दिया। अधिवक्ता गोपाल सिंह बघेल ने कोर्ट को बताया कि जनहित याचिकाकर्ता ने इसके खिलाफ राष्ट्रपति को अभ्यावेदन देकर मुस्लिमों के संवैधानिक अधिकारों की रक्षा की गुहार लगाई।

राष्ट्रपति से आग्रह किया गया कि मुस्लिम धर्मावलंबियों की भावनाओं का आदर करते हुए स्टेशन का नाम पूर्ववत हबीबगंज किया जाना चाहिए। लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नही हुई तो कोर्ट की शरण ली गई। उप महाधिवक्ता स्वप्निल गांगुली ने याचिका का विरोध करते हुए स्टेशन के नामकरण को उचित बताया।

उन्होंने कहा कि इतिहास के स्वर्णिम पलों की स्मृति सहेजने के लिए स्टेशन का नाम बदला गया है।अंतिम सुनवाई के बाद कोर्ट ने अपना निर्णय सुरक्षित कर लिया। बहस के दौरान दोनों तरफ से तर्क रखे गए। कोर्ट ने सभी रिकार्ड पर लिए। अब निर्णय होगा।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local