जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि।

शहर की होटल, मैरिज गार्डन, निजी अस्पताल और व्यावसायिक संपत्तियों की नए सिरे से नापजोख करने निगम द्वारा अभियान चलाया जा रहा है। इसमें पहले ही दिन रामपुर स्थित सुखसागर टाटा शोरूम में भारी गड़बड़ी मिली। निगम रिकार्ड में दर्ज क्षेत्रफल की तुलना में मौके पर अधिक निर्माण मिला। इसको लेकर अधिकारियों ने अंतर राशि वसूलने के निर्देश भी दिए। लेकिन इस संबंध में राजस्व अधिकारी से लेकर सहायक आयुक्त तक जानकारी देने से बचते रहे। इससे संपत्ति की वास्तविक नापजोख रिकार्ड में दर्ज होगी या नहीं इसको लेकर आशंका होने लगी है।

नगर निगम राजस्व अधिकारी दीपनारायण मिश्रा ने बताया कि जोन क्रमांक 3 रामपुर स्थित सुखसागर टाटा शोरूम की बुधवार को नए सिरे से नापजोख की गई। इस नाप में ई-पोर्टल में दर्ज क्षेत्रफल में अंतर पाया गया। जो भी अंतर मिला उसे निगम रिकार्ड में दर्ज किए जाने हेतु व अंतर की राशि का देयक देते हुए वसूली के निर्देश राजस्व निरीक्षक को दिए गए। जांच के दौरान उड़नदस्ता दल प्रभारी भवन उपयंत्री व टीम के सदस्य उपस्थित रहे। लेकिन इस संबंध में राजस्व अधिकारी से जब जानकारी मांगी गई तो संपत्ति का कितना क्षेत्रफल दर्ज है और मौके पर कितना अधिक मिला इसकी जानकारी वे नहीं दे पाए। वहीं सहायक आयुक्त नगर निगम प्रफुल्ल गठरे भी मौके पर उपस्थित रहे लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया। सूत्रों का कहना है कि अभियान के दौरान मिली गड़बड़ी की जानकारी अधिकारियों द्वारा जानबूझकर छिपाई जा रही है क्योंकि इसको लेकर अभी उनके बीच ही स्थिति स्पष्ट नहीं है।

क्या कहता है नियम:

नगर पालिक निगम अधिनियम के अनुसार कोई भी संपत्ति की नापजोख में निर्माण एरिया यदि 10 फीसद कम या ज्यादा मिलता है तो उस पर किसी प्रकार का जुर्माना नहीं लगाया जा सकता। यदि इससे अधिक निर्माण मिलता है 5 गुना जुर्माना का प्राविधान है।

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस