Jabalpur News : जबलपुर (नई दुनिया प्रतिनिधि )। दलदल में फंसा हुआ है, जल्दी आ जाओ, यह पुकार थी जबलपुर के गढ़ा पुरवा में रहने वाली एक महिला कि जो कि अपनी आंखों के सामने बालक को तलाब के पानी के दलदल में डूबते हुए देख रही थी। महिला की आवाज सुनने के बाद पड़ोस में रहने वाले एक युवक ने साहस का परिचय दिया और अपने साथियों के साथ मिलकर जान बचा ली। दरअसल पुरवा में रहने वाला आठ वर्ष का मयंक पतंग लूटते-लूटते तालाब के किनारे घास के बीच दलदल में फंस गया था। स्थानीय लोगों ने मयंक को सकुशल दलदल से बाहर निकाला और फिर उनके परिजनों को सौंपा।

गढ़ा थाना के पुरवा क्षेत्र में रहने वाला मयंक पतंग को लूटने में इतना मगन हो गया कि उसे यह समझ में नहीं आया कि वह पानी में है या फिर जमीन में। पतंग लूटने की धुन में मयंक पानी में बिछी घास के बीच गया और वहा फंसकर रह गया। मयंक को महिला ने छत से देखा, महिला ने देखा कि एक बच्चा तालाब के किनारे पानी के बीच घास में फंसा हुआ है उसके हाथों में पतंग है। महिला को यह समझते देर नहीं लगी कि वह पतंग लूटते-लूटते पानी के बीच दलदल में फंस गया है। मयंक को पानी में फंसे महिला ने देखा तो शोर मचाना शुरू कर दिया। पड़ोस में ही रहने वाले राकेश कुमार ने लकड़ी की सीढ़ी की मदद से सकुशल पानी के दलदल से बाहर निकाल लिया।

रजनी चक्रवर्ती ने बताया कि हम छत पर थे तभी मयंक पतंग लूटते-लूटते तालाब के किनारे घास में पानी के दलदल में फंसा देखा था। बच्चे को पानी में फंसे देखकर महिला ने आसपास के लोगों को बुलाया।

राकेश चक्रवर्ती ने बताया कि मयंक पड़ोस में ही रहता है जो की पतंग लूटते-लूटते तालाब के पास गहरे दलदल तक पहुंच गया था, समय रहते मयंक नहीं दिखता तो इसकी जान जा सकती थी।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close